नक्सल मुठभेड़ : शहीदी सप्ताह के बाद चल रहे ट्रेनिंग कैंप है जवानों का टारगेट

नक्सल मुठभेड़ में 14 नक्सली ढेर, जवानों की एक बड़ी टुकड़ी की सर्चिंग ज़ारी

 

रायपुर। बारिश में नक्सल मुठभेड़ तो दूर बस्तर के जंगलों में घुसना एक बड़ी चुनौती होती है। इन विपरीत परिस्तिथियों में नक्सल मुठभेड़ में 14 नक्सलियों को मार गिराने का काम जवानों ने किया। इसके पीछे की वजह सिर्फ एक ही रही। नक्सलियों की बढ़ती संख्या को रोकने उनके ट्रेनिंग कैम्प को ध्वस्त करना।

इसी लक्ष्य को लेकर राज्य पुलिस फ़ोर्स, डीआरजी और एसटीएफ के जवानों की दो टुकड़ियां बस्तर के जंगलों में उतरी थी। इनमे एक टुकड़ी ने सुकमा जिले के गोलमपल्ली, भेज्जी और कोंटा थाना क्षेत्र के बिच बैठे 14 नक्सलियों को मार गिराया। नलकटंगा गाँव के दुरमा फारेस्ट एरिया में ये टीम सर्चिंग करते हुए जा पहुंची। जहाँ तकरीबन 25 से 40 नक्सलियों के होने की पुख़्ता ख़बर इंटेलिजेंस ने दी थी। पक्की जानकारी और बेहतरीन प्लानिंग ने जवानों के हाथ एक बड़ी सफलता लगी। इस मुठभेड़ में मिली सफलता को बड़ी इसलिए भी कहना लाज़मी है क्यों के मामलें में पांच लाख का इनामी नक्सली देवा ज़िंदा गिरफ्तार भी हुआ है। वहीं आज तक फ़ोर्स इन इलाकों में कदम भी नहीं रख पाई थी।

2022 तक हो जाएगा ख़ात्मा
जवानों ने इस आपरेशंस को इतने शानदार तरीके से अंजाम दिया कि उन्हें खरोंच तक नहीं आयी। नक्सल डीजी डीएम अवस्थी ने इस आपरेशंस को बेहद कामयाब बताते हुए सुकमा एसपी सहित जवानों को अपनी शुभकामनाएं दी है। जिस इलाके में मुठभेड़ हुई, वो नक्सलियों का बेहद ही सुरक्षित ठिकाना समझा जाता था। आज तक फोर्स उस एरिया में नहीं पहुंची थी, लिहाजा नक्सलियों ने बेहद इत्मीनान से कैंप लगाया था, क्योंकि नक्सलियों को थोड़ा भी अहसास नहीं था कि फोर्स यहां तक पहुंच सकती है। डीजी ने माना कि इसी तरीके से नक्सल समस्या को 2022 तक खत्म किया जा सकता है।

खूंखार नक्सली देवा गिरफ़्तार
मुठभेड़ में 14 नक्सली मौके पर मर गिराने के बाद फोर्स ने 5 लाख के इनामी नक्सली कमांडर देवा को गिरफ़्तार किया है। फायरिंग के दौरान एक महिला नक्सली को भी गोली लगी जिसे पकड़कर रायपुर लाया जा रहा है। डीजी नक्सल ऑपरेशन डीएम अवस्थी के मुताबिक देवा बटालियन नंबर-1 में रहा है, और हिड़मा के साथ भी उसने काम किया है। वो भी मुठभेड़ के दौरान कैंप में ही मौजूद थे। वहीं मारे गये नक्सली में बंजाम हूंजा नाम के एक नक्सली की पहचान हुई है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.