विश्वरूपम-2 : कमल हसन उम्मीद ज़्यादा और परफॉर्मेंस में एवरेज निकले

विश्वरूपम-2 में कई सीन कर सकते है कंफ्यूज़

नई दिल्ली। विश्वरूपम की सीक्वेल फिल्म विश्वरूपम-2 में कमल हसन का किरदार एक जासूस का है। ये फिल्म विश्वरूपम की एंड स्टोरी से ही स्टार्स होती है। विश्वरूपम-2 में मिसाम नाम का एक कैरेक्टर बतौर इंडियन जासूस लन्दन में टेरिज़्म के खिलाफ काम करता है। इस फिल्म में कमल हसन का वनमैन शो दिखा है। कमल ने खुद ये फिल्म लिखी, इसका निर्देशन किया और वे खुद ही इस फिल्म के निर्माता भी है।

Kamal Hasan
बतौर जासूस इस फिल्म में कमल ने आज के दौर के युवाओं को एक सन्देश दिया है। फिल्म पूरी तरह रोमांच और थ्रील से भरी हुई है। साथ ही कमल हसन की मां का रोल निभा रही वहीदा रहमान की केमस्ट्री दर्शकों को भावुक भी कर रही है।

Vishwaroopam 2

फिल्म में सबसे अहम हिस्सा अमरीका द्वारा आतंकी हमलों का है जिसका फिल्मांकन बेहद सटीक और शानदार किया गया है। फिल्म में पूजा कुमार के साथ एंड्रिया जेर्मिया और अश्मिता का किरदार ज़रा गुदगुदाने वाला है।

खल गई ये खामीयां
इस बेहतरीन फिल्म में भी कुछ कमियां है जो पूरी फिल्म देखने के बाद खलती है। फिल्म की स्क्रिप्ट लाइन कई दफे आप डाउन होने की वजह से फिल्म ज़रा स्मूथ नहीं बन पाई हैं।Vishwaroopam 2

हर एक नए सिन से पुराने सिन के जुड़ाव रखने दर्शकों को दिमाग पर ज़ोर डालना पड़ रहा है। वहीं फिल्म का टाइम ड्यूरेशन यानी लेंथ भी कहानी की डिमांड से ज़्यादा लम्बी है। लिहाज़ा कुछ एक जगह पर दर्शन उक्ता भी रहे है। कई सीन्स के फिल्मांकन में आप की ज़बान से ये भी निकल सकता है के अरे ये तो हो ही नहीं सकता।

ये भी देखें : रागिनी MMS की हीरोइन करिश्मा शर्मा की हॉट तस्वीरें वॉयरल…कराया था बोल्ड फोटोशूट

खैर इन सभी को दरकिनार कर भी दिया जाए तो फिल्म का नरेशन भी बड़ी कमज़ोरी सामने बनकर खड़े हो जाती है। कई फ्लैश बैक के सीन्स के लिए पहला पार्ट देखना भी ज़रूरी सा लगता है।

 

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.