निराधार हुआ आधार अब ” वर्चुअल आईडी ” से होंगे सारे काम

नई दिल्ली। आधार कार्ड के डाटा लिक मामलें के बाद सरकार अब वर्चुअल आईडी ज़ारी करने की तैयारी कर रही है। सरकार के निर्देश के बाद भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने वर्चुअल आईडी की तैयारी कर ली है। अब सरकारी सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए आधार की जगह वर्चुअल आईडी का इस्तेमाल होगा। सरकार ने ये क़दम आधार की सेफ्टी को मजबूत करने के लिए किया है।
दरअसल वर्चुअल आईडी भी आधार की तरह का ही एक टेंपररी नंबर है। यह 16 अंकों का नंबर होता है, अगर इसे आधार का क्लोन कहा जाए तो यह गलत नहीं होगा। इसमें आईडी में एक शार्ट डिटेल ही अपलोड होंगी। UIDAI को हर आधार कार्डधारी को एक वर्चुअल आईडी देगी। वर्चुअल आईडी जनरेट करने की सुविधा 1 जुलाई से अनिवार्य हो जाएगी। यूआईडीएआई ने पहले एक जून से वर्चुअल आईडी की शुरुआत करने का फैसला किया था, लेकिन फिर इसकी तारीख बढ़ाकर एक जुलाई कर दी थी।

ऐसे जनरेट करें अपनी VID
0 VID जेनरेट करने के लिए UIDAI के होमपेज पर जाएं।
0 अब अपना आधार नंबर डालें. इसके बाद सिक्योरिटी कोड डालें और SEND OTP पर क्लिक कर दें।
0 जिस मोबाइल नंबर से आपका आधार रजिस्टर्ड होगा, वहीं आपको OTP भेजी जाएगी।
0 OTP डालने के बाद आपको नई VID जेनरेट करने का ऑप्शन मिल जाएगा।
0 जब यह जेनरेट हो जाएगी तो आपके मोबाइल पर आपकी वर्चुअल आईडी भेज दी जाएगी, यानी 16 अंकों का नंबर आ जाएगा।

वर्चुअल आईडी से क्या होगा?
0 यह आपको सत्यापन के समय आधार नंबर को साझा नहीं करने का विकल्प देगी।
0 वर्चुअल आईडी से नाम, पता और फोटोग्राफ जैसी कई चीजों का वेरिफिकेशन हो सकेगा।
0 कोई यूजर जितनी चाहे, उतनी वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकेगा।
0 पुरानी आईडी अपने आप कैंसिल हो जाएगी।
0 UIDAI के मुताबिक, अधिकृत एजेंसियों को आधार कार्ड होल्डर की ओर से वर्चुअल आईडी जनरेट करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.