एक तार के टुकड़े ने कबाड़ किया 130 करोड़ का प्लेन, जाने क्या है मामला

रायपुर। ज़मीन से तक़रीबन 30 हज़ार फिट की उचाई में आसमान चीरते हुए उड़ रहे विमान को महज़ एक तार के टुकड़े ने कबाड़ कर दिया। 7 अगस्त 2015 को बांग्लादेश के यूनाइटेड एयरवेज़ के एक विमान की इमरजेंसी लैंडिंग रायपुर एयरपोर्ट में हुई थी। इस विमान का आउटर नोज़ (विमान के बाहरी हिस्से की एक मशीन) का एक टुकड़ा भी राजधानी से तक़रीबन 65 किलोमीटर बेमेतरा में गिरा था। जिसकी वजह से विमान दुबारा उड़ान नहीं भर पा रहा है। इस नोज से ही एक तार का टुकड़ा विमान के इंजन में घुस गया था जिसकी वजह से विमान का पूरा इंजन ही बदलना पड़ा। इस हादसे के दौरान विमान में तक़रीबन 172 यात्री सवार से थे जो ढाका से मस्कट के लिए रवाना हुए थे।
रायपुर एयरपोर्ट में इस जहाज को खड़े तक़रीबन 1030 दिनों से भी ज़्यादा हो चुके है। इस विमान के किराए के ही अगर आकड़े देखे जाए तो मामला विमान की आधी कीमत तक पहुँचता है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ने इस विमान की पार्किंग के लिए 4500 रूपए तय किए थे, इस लिहाज़ से पार्किंग शुल्क लगभग 46 लाख 50 हज़ार के आस पास का होगा। 220 सीटर इस विमान की कीमत ही लगभग 130 करोड़ है और यूनाइटेड एयरवेज़ इसकी रिपेरिंग में ही लगभग 30 करोड़ रुपए खर्च कर चुकी है। लिहाज़ा अब कंपनी इस जहाज को वापस ले जाने के मुड़ में नहीं है।

खराब इंजन की पहुंचा बांग्लादेश
बांग्लादेशी यूनाइटेड एयरवेज की तरफ से खराब इंजन को वापस सड़क मार्ग से ले जाने के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी को पत्र सौंपा गया । जिसकी इजाजत भी जारी कर दी गई थी। अनुमति मिलने के बाद विमान का ख़राब इंजन बांग्लादेश रवाना हो चूका था। वहीँ विमान को बनाने पहुंचे इंजीनियर्स की पूरी टीम अपना काम फरवरी 2016 में पूरा कर ही लौट गई थी।