मोनेट, NR इस्पात समेत 5 उद्योगों पर जुर्माना, ये है वज़ह…

श्रम न्यायालय ने मजदूरों की सुरक्षा व्यवस्था नहीं पर की कार्यवाही

 

रायगढ़। उद्योगों में पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था नहीं होने के कारण श्रम न्यायालय ने पांच उद्योगों पर 13 लाख का जुर्माना ठोका है। इनमें मोनेट, एमएसपी, श्रीराम हाईटेक, एनआर इस्पात और आलोक इस्पात शामिल है। बताया जा रहा है कि उद्योगों में पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था नहीं होने के कारण होने वाले हादसों के लिए उद्योग प्रबंधनों को जिम्मेदार ठहराया गया है। पूर्व में एनआर इस्पात गेरवानी में हुए हादसे में जहां श्रमिक नीमच लाल भास्कर की मौत हो गई थी, तो वहीं श्रीराम हाईटेक में काम करने वाले श्रमिक हरेंद्र सिंह की मौत हो गई थी।

मोनेट में जहीर वैद्य की मौत हुई थी तो वहीं आलोक इस्पात में 4 श्रमिक पंकज पांडे कृष्णा यादव रामचंद्र यादव रामेश्वर दास घायल हुए थे। इनके अलावा एमएसपी में समिंदर यादव सुमन सिंह मोहन कुमार और चंदन यादव घायल हुए थे। उद्योगों में हुए हादसे के बाद औद्योगिक सुरक्षा एवं स्वास्थ्य विभाग के उपसंचालक मनीष श्रीवास्तव और निरीक्षक राहुल ने जांच प्रतिवेदन तैयार कर प्रकरण श्रम न्यायालय में पेश किया था। इसमें एनआर इस्पात को जहां 3लाख, वहीं आलोक इस्पात को 2लाख 10,000 का जुर्माना ठोका गया है। इसके अलावा श्रीराम हाईटेक को 2 लाख का जुर्माना लगाते हुए मोनेट को 2 लाख और एमएसपी को सबसे ज्यादा 4 लाख का जुर्माना किया गया है।