रक्षाबंधन : महिला एवं बाल विकास विभाग ने बनाया ” पोषण रक्षा सूत्र “

रक्षाबंधन से पोषण अभियान को जन आंदोलन बनाने बनाई गई स्पेशल राखी

 

रायपुर। रक्षाबंधन को ख़ास बनाने महिला एवं बाल विकास विभाग ने एक अलग तरह की राखी बनाई है। इस राखी के मार्फ़त बहने अपने भाइयों से कुपोषण के खिलाफ चल रही लड़ाई को तेज़ किया जा रहा है। बहने अपने भाइयों के हाथों पर जो रक्षा सूत्र बांधेंगी वो ज़रा हट के होगा। इस राखी के ठीक बीचो बीच पोषण रक्षा सूत्र लिखा गया है।

महिला एवं बाल विकास विभाग

ये राखिया हर आंगनबाड़ी तक महिला एवं बाल विकास विभाग ने पहुंचाई है। जिसे वहां आ रहे बच्चो को बांध कर कुपोषण को शत प्रतिशत ख़त्म करने का संकल्प लिया गया। रक्षाबंधन पर्व के एक दिन पहले शुरू हुए ‘पोषण रक्षा सूत्र बंधन’ में बच्चों को ये राखी बांधी गई। इस दौरान स्वसहायता समूह की महिलाओं ने रक्षासूत्र बांध बच्चों को कुपोषण से मुक्ति दिलाने का वचन दिया।
गौरतलब है कि पोषण अभियान के तहत प्रदेश के 23 हजार 926 आंगनबाड़ी केन्द्रों में शिशु एवं मातृ सुरक्षा, कुपोषण मुक्ति , स्वच्छता, बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने महिलाओं की साक्षरता आंगनबाड़ी केन्द्रों के भवनों का निर्माण जैसी गतिविधियों का संचालन किया जा रहा है।

स्पेशल राखी

 

ट्वीटर पर की अपील
इस अभियान के लिए बकायदा महिला एवं बाल विकास विभाग ने अपने ट्वीटर एकाउंट पर भी तस्वीरें ज़ारी की है।

 

 

11 करोड़ लोगो तक पहुंचने का लक्ष्य
केंद्र सरकार वर्ष 2019 तक देश के सभी जिलों को पोषण अभियान में शामिल कर लेगी। केंद्र सरकार ने अभियान को जन आंदोलन बनाने की रुपरेखा तय करते हुए अग्रिम मोर्चे पर काम करने वाले कार्यकर्ताओं और वालंटीयर्स को आधा दर्जन समूहों में बांटकर जिम्मेदारी दी है। पोषण अभियान की निगरानी के लिए बनी राष्ट्रीय समिति की संस्तुति से 11 करोड़ लाभार्थियों तक पहुंचने का खाका तैयार किया गया है।

पोषण रक्षा सूत्र

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.