हाईअलर्ट : फूंक-फूंक कर कदम रखेंगे जवान, ड्रोन से मॉनेटरिंग


रायपुर। महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में हुई घटना के बाद ज़ारी हुए हाईअलर्ट में छत्तीसढ़ के जवानों को ख़ासा अलर्ट रहने की हिदायत दी गई है। छत्तीसगढ़ की सीमा से लगे गढ़चिरौली जिले में कल नक्सलियों को बड़ा नुक़सान पंहुचा है। जवानों ने 14 नक्सलियों को मार गिराने में सफलता हासिल की थी। ख़ुफ़िया विभाग के पास इस बात के इनपुट है कि गढ़चिरौली में हुए हमलें के बाद बड़ी संख्या में माओवादी छत्तीसगढ़ की तरफ आए है, लिहाज़ा यहाँ वे कोई बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते है। ख़ुफ़िया विभाग ने बस्तर और सरगुजा संभाग में तैनात फ़ोर्स को इत्तला कर दी है कि सर्चिंग के दौरान कोई भी कोताही और लापरवाही नहीं बरते। साथ ही साथ सर्चिंग पर निकलने से पहले ड्रोन से उस रुट की मॉनेटरिंग ज़रूर करें। इसके आलावा कई आवश्यक दिशा निर्देश बस्तर संभाग में तैनात फोर्सेस के लिए ज़ारी किए गए है।

झुण्ड तलाशने की कोशिश
खबर है कि महाराष्ट्र से छत्तीसगढ़ में प्रवेश किए नक्सलियों के झुंड तलाशने बस्तर संभाग के ढाई दर्जन गाँवों में फ़ोर्स उतरेगी। इसके आलावा ड्रोन के ज़रिए भी कुछ गाँवों और जंगल के रास्तों को सर्विलांस में रखा गया है।

छत्तीसगढ़ में भी था प्रभाव
गौरतलब है कि गढ़चिरौली में जिन दो बड़े नक्सली नेता को पुलिस ने मार गिराया है, उनका प्रभाव छत्तीसगढ़ में भी रहा है। ऐसे में नक्सली इस हमले का बदला छत्तीसगढ़ में भी ले सकते हैं। एसआईबी एसपी डी रविशंकर ने कहा कि महाराष्ट्र पुलिस को मिली कामयबी पर कहा कि ऐसी कार्रवाईयों से उत्साह बढ़ता है। जवानों को सतर्क रहने की भी जरूरत है।