नर्सों के घरों में चस्पा हुई नोटिस, काम पर नहीं लौटे तो होगी कार्यवाही


रायपुर। राजधानी के ईदगाहभाठा मैदान में अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर बैठी स्टाफ नर्सों के घरों में विभाग का नोटिस चस्पा हुआ है। नोटिस में स्पस्ट कहा गया है कि हड़ताल समाप्त नहीं करने की स्तिथि में विभाग विधिसम्मत कार्यवाही कर सकता है। इतना ही नहीं चिकित्सा के दौरान यदि किसी भी मरीज़ की मृत्यु चिकित्सकीय कारणों से होती है तो उसकी ज़िम्मेदारी नर्सों की होगी है।
इधर नर्सों को नोटिस दिए जाने के मामले में संघ की प्रातांध्यक्ष देवश्री साव ने कहा कि बेशक यह सरकार का काम नहीं है, यदि सरकार को भेजना होता तो पोस्ट के जरिए सीधा हमारे घर पर भेजती | यह काम उन लोगों का है जो हमारा मनोबल तोडना चाहते हैं, लेकिन हम हार नहीं मानेंगे और हम 4600 लेकर ही हटेंगे | उन्होंने कहा कि हम अचानक ही धरना करने नहीं आए हैं, बल्कि एक महीने पहले से शासन को अल्टीमेटम दे दिया था | प्रांताध्यक्ष के सुर में सुर मिलाते हुए प्रांतीय सचिव रुख्मणी दीवान ने बताया कि तेज धूप में अनिश्चितकालीन हड़ताल करने की वजह से नर्स बीमार हो रही हैं, लेकिन हमारे हौसले नहीं टूटे हैं | उन्होंने मांगे पूरी होने तक आंदोलन जारी रखने की चेतावनी दी है।

घरों में चस्पा हुए नोटिस
दुर्ग जिले की नर्स सरोज बाला कोरसे ने बताया है कि वे हड़ताल करने रायपुर आई थी, उसी बीच किसी ने उनके घर के बाहर लेटर चिपका दिया है | जिसमें जल्द से जल्द हड़ताल ख़तम कर के वापस काम पर आने को कहा गया है, नहीं तो उनके खिलाफ कोई एक्शन लिया जाएगा | उन्होंने बताया कि ऐसा पांच से छ नर्सों के घर के सामने नोटिस चिपकाया गया है | उन्होंने कहा कि यह सरकार का काम नहीं है, कोई विपक्ष का है जो हमें डरना चाहता है, लेकिन हम डरने वालों में से नहीं हैं।