बलांगीर ब्लॉस्ट- ऑटो वाले गवाह को तलाशने पहुंची ओडिशा क्राइम ब्रांच


रायपुर। बलांगीर के पाटनगढ़ में हुए बम ब्लास्ट मामलें में मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के बाद ओडिशा पुलिस एक ऑटो वाले की तलाश में रायपुर पहुंची है। ओडिशा क्राइमब्रांच आईजी खुद अपने लावलश्कर के साथ मामलें में गिरफ्तार आरोपी को लेकर पहुंचे। यहाँ उसने अपना पार्सल बम कोरियर कंपनी तक एक ऑटो रिक्शा चालक के ज़रिए पहुंचाया था। जिसकी तलाश ओड़ीशा पुलिस कर रही है। दरअसल मामलें में अब यही आटोचालक है जो आरोपी को तगड़ी सज़ा दिलवाने में अहम रोल निभाएगा। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ प्रोफ़सर कुंजीलाल के खिलाफ आटोचालक की गवाही काफी अहम मानी जा रही है। अगर उसकी गवांहीअदालत में नहीं हुई तो अपराधी के बचने के भी चांसेस है। चूँकि मामलें में अब तक जितने भी सबुत ओडिसा क्राइमब्रांच ने जुटाएं है वो उम्रक़ैद जैसी सजा के लिए नाकाफ़ी है। लिहाज़ा इस ऑटोवाले की गवाही बेहद अहम मानी जा रही है। हालांकि पुलिस उसके हर इक़बालिया बयान का डेमों करवा कर तथ्य जुटाने में लगी है। इधर बलांगीर आईजी अनूप बोथरा ने इस बात की भी घोषणा कि अगर आॅटो चालक की जानकारी किसी को मिलती है, तो वह रायपुर पुलिस को सूचना देकर अपना इनाम ले सकते हैं।

ऐसे गिरफ़्तार हुआ कुंजीलाल
बलांगीर क्राइम ब्रांच ने जांच शुरू की, तो कोरियर कंपनी ने कोरियर बुकिंग करने वाले का नाम एसके शर्मा बताया। रायपुर से बलांगीर पहुंचने के बाद साहू परिवार से रंजिश रखने वाले सभी लोगों से पूछताछ की गई। प्रो. पुजीलाल मेहर को भी थाना बुलाया गया। इस बीच बलांगीर एसपी को पत्र मिला, जिसमें विस्फोट करने वाले आरोपी का नाम एसके शर्मा की जगह एसके सिन्हा बताया गया था। पुलिस ने जब बारीकी से कोरियर रसीद की जांच की, तो आरोपी का नाम एसके सिन्हा ही लिखा मिला। इस पर पुलिस ने पत्र लिखने वाले का पता किया। सामने आया कि पत्र प्रो. मेहर ने ही लिखा है। क्राइम ब्रांच ने जब इस बारे में पूछताछ की, तो वह घबरा गया और गुनाह कबूल कर लिया।