बस्तर के जंगलों में उतरेंगे “ब्लैक पैंथर फ़ोर्स के जवान”-राजनाथ


रायपुर। छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ ग्रेहाउंड की तर्ज पर एक नया फोर्स ब्लैक पैंथर उतारने की तैयारी है। ये 4 आरआई बटालियन है इसमें ज्यादातर बस्तर के ही नौजवान शामिल होंगे। मीडिया से बात करते हुए केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि नक्सलियों की ताकत घटी है। नक्सली अब हमारे जवानों से फेस-टू-फेस लड़ाई नहीं लड़ पा रहे हैं। सुरक्षा बलों को ज्यादातर नुकसान आईईडी धमाकों से हो रही है, ताकत कम होने से नक्सली लगातार अपनी कायराना करतूत आईईडी धमाका कर अंजाम दे रहे हैं। राजनाथ सिंह ने कहा कि माओवाद पूरे देश मे तेजी से सिमट रहा है, विशेषज्ञों का कहना माओवादी हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। गृहमंत्री ने फिर जोर दे कर कहा माओवादी विकास विरोधी हैं, जहां उनका प्रभाव है वहां हमेशा गरीबी बनी रहती है और वहां विकास न हो यह उनका प्रयास रहता है। देश में पिछड़े जिलों की सूची में 35 नक्सल प्रभावित जिले हैं। माओवादी नेता जहां उनका प्रभाव है, वहां की जनता को गरीब बनाए रखना चाहता है लेकिन खुद करोड़ों रूपये कमा रहे हैं।

फंडिंग के रास्ते करेंगे बंद
नक्सलियों की विदेशों में करोड़ों की सम्पति है। इनके बच्चे विदेशों में पढ़ाई कर रहे है। हम इस पर नजर बनाए रखे है, आगे ये नहीं चल पायेगा, नक्सलियों के फन्ड रेसिंग के सारे रास्ते बंद किये जायेंगे। सारी पड़ताल पूरी होने के बाद इनकी सम्पति भी जब्त की जाएंगी। मुख्यमंत्री ने कहा सुरक्षा बलों के बढ़े दबाव के चलते ही हम बस्तर में 1600 किमी सड़क बनाने में कामयाब रहे हैं।