मोहब्बत में “ना” बनी जानलेवा, प्रेमिका को चाकू से गोदा फिर लगाई फांसी

एकतरफा प्रेमप्रसंग के मामलें में सिरफिरे आशिक का कारनामा

बैकुंठपुर। एक स्कूली छात्रा से एकतरफा मोहब्बत करने वाले सिरफिरे आशिक ने आज अपनी ही मोहब्बत को चाकू से गोद डाला। जिसे कभी दिलों जान से बढ़कर पागलों की तरह चाहने और पाने की तमन्ना उस आशिक में थी, पर उसकी एक “ना” ने पूरा मामला ही उलट कर रख दिया। अपनी आशिक़ी की बेक़द्री से खफ़ा आशिक ने इस “ना” का बदला लेने की ठानी और उसे मौत के घाट उतारने की नियत से ताबड़तोड़ चाक़ू से वार करता गया। वार करने के बाद जब आरोपी वहां से फ़रार हुआ तो उसने अपने कामगार स्थान को ही अपना ठिकाना बनाया। खुद को एक कमरे में कैद कर भी उसे शायद पुलिसिया खौफ और अपने प्रियसी का खून से लथपथ देह ही नज़र आया होगा जिसके बाद उसने खुद को भी फांसी के फंदे पर झूला लिया।


बैकुंठपुर के सोनहत थाना प्रभारी ओम साहू ने बताया कि सलगवा निवासी एक स्कूली छात्रा को सूरज उर्फ़ दगडू नाम का युवक मन ही मन में चाहने लगा था। कुछ दिन पहले ही उसने इज़हार-ए-मोहब्बत भी उस छात्रा से किया था, पर छात्रा ने सूरज को इसका जवाब सीधे “ना” में दे दिया और खुद से दूर रहने की नसीहत भी दे दी। इस मनाही से टूटे दिल के साथ सूरज ने इसका बदला लेने की ठानी, और आज मौका पाकर परीक्षा देने पहुंची अपनी मेहबूबा का इंतज़ार करने लगा। जैसे ही छठा अपना परचा लिखकर घर जाने के लिए निकली वैसे ही सूरज ने उसे घेर कर उस पर चाकू से वार करना शुरू कर दिया। चाकू के हमले से घायल छात्रा बदहवास होकर सड़क पर गिर पड़ी। जिसके बाद भी आरोपी सूरज ने लगातार उस पर चाकू से हमला जारी रखा।

                  पुलिस ने बताया कि स्कूली छात्रा पर तकरीबन 15 से 16 दफे इस सिरफिरे आशिक ने चाकू से वार किया है। जब लोगों ने बीच बचाव के लिए पहुंचे तब भाग खड़े हुआ। जिसके बाद छात्रा को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में शुरुवाती इलाज के बाद जिला अस्पताल भेजा गया है। फिलहाल जिला अस्पताल के आईसीयू में भर्ती पीड़िता का इलाज़ जारी है। अब तक पूरी तरीके से उसे होश में नहीं आया है लेकिन वो सिर्फ चाकू से हमला करने वाले का नाम बोल रही है।

इधर चाकू मारकर फरार हुआ सूरज ने कैलाशनगर उसी गैरेज में जा पंहुचा जहाँ वो काम किया करता था। सूरज ने वहां पहुंच कर खुद को एक कमरे में बंद कर लिया था। जिसके बाद उसने वहां होने की सुचना स्थानीय लोगो ने पुलिस को दी। जब तक पुलिस वहां पहुँचती उसके पहले ही सूरज ने खुद को भी मौत के हवाले कर दिया था पुलिस ने जब दरवाज़ा खोला तो सूरज की लाश फांसी के फंदे पर लटकती हुई मिली थी। दिलहल उसका शव उतारकर पुलिस ने पोस्टर्मार्टम के लिए भेज दिया है।