किसान रेल की सुविधा छत्तीसगढ़ के किसान और कारोबारी भी उठा सकेंगे

किसान रेल में सब्जी व फल के भाड़े में 50 फीसदी की रियायत दी जा रही

बिलासपुर|  किसान रेल की सुविधा छत्तीसगढ़ के किसान और कारोबारी भी उठा सकेंगे| दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा दिनांक 28 अक्टूबर को नागपुर मंडल के छिंदवाड़ा स्टेशन से हावड़ा स्टेशन तक 18 कोचों के संयोजन के साथ किसान स्पेशल ट्रेन चलाने का निर्णय लिया गया है जो महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ ,बिहार व पश्चिम बंगाल राज्यों को जोड़ेगी।  किसानों के हित में चलाई जा रही इस किसान रेल में सब्जी व फल के परिवहन के भाड़े में 50 फीसदी की रियायत दी जा रही है|

सहायक वाणिज्य प्रबन्धक श्री एस भारतीयन तथा वाणिज्य निरीक्षकों की टीम मंडी जाकर किसानों व व्यापारियों के साथ बैठक कर उन्हें विस्तृत जानकारी दे रहे हैं साथ ही किसान रेल के माध्यम से सब्जी व फल के परिवहन हेतु उन्हें प्रेरित कर रहे हैं|

बता दें कि भारतीय रेलवे द्वारा किसानों की मदद करने तथा देश भर में कृषि उत्पादों की तेज ढुलाई सुनिश्चित करने के उद्देश्य से किसान रेल चलाई जा रही है| किसान रेल द्वारा कृषि उत्पाद देश के एक कोने से दूसरे कोने तक आसानी से व न्यूनतम भाड़े के साथ पहुंचाई जा रही है। किसान रेल एक सुरक्षित, विश्वसनीय और तेज परिवहन प्रदान करता है जो किसानों और कारोबारियों के लिए उनके उत्पादों की अच्छी कीमत दिलाने में भी मददगार साबित हो रहा है|

इस सुविधा से किसान कम लागत पर अपने उपज नए संभावित मार्केट तक भेज सकेंगे, जिससे वे आर्थिक रूप से लाभान्वित होंगे | किसान रेल के माध्यम से सब्जी व फल का परिवहन करने वाले किसान अथवा व्यापारी बिलासपुर पार्सल आफिस या मुख्य वाणिज्य निरीक्षक निशीथ कुमार पाण्डेय से मोबाइल नं 7869964376 पर संपर्क कर विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं|

कब किस स्टेशन पर         

गाड़ी संख्या 00883 किसान रेल छिंदवाड़ा से 28 अक्टूबर 2020 को 05.00 बजे प्रस्थान करेगी तथा सौसर आगमन 06.25 बजे प्रस्थान 06.55 बजे, सावनेर आगमन 07.25 बजे प्रस्थान 07.55 बजे, इतवारी आगमन 09.00 बजे प्रस्थान 13.00 बजे, गोंदिया आगमन 14.55 बजे प्रस्थान 15.15 बजे, राजनांदगाँव आगमन 16.35 बजे प्रस्थान 16.45 बजे, दुर्ग आगमन 17.25 बजे प्रस्थान 17.45 बजे, रायपुर आगमन 18.25 बजे प्रस्थान 18.45 बजे, बिलासपुर आगमन 20.40 बजे प्रस्थान 21.00 बजे, चांपा आगमन 22.05 बजे प्रस्थान 22.15 बजे, रायगढ़ आगमन 23.10 बजे प्रस्थान 23.30 बजे, झारसुगुड़ा दूसरे दिन आगमन 01.00 बजे प्रस्थान 01.20 बजे, राउरकेला आगमन 02.40 बजे प्रस्थान 03.10 बजे, चक्रधरपुर आगमन 04.30 बजे प्रस्थान 04.40 बजे, टाटानगर आगमन 05.40 बजे प्रस्थान 06.10 बजे, खड़गपुर आगमन 08.40 बजे तथा 09.10 बजे प्रस्थान कर हावड़ा 12.00 बजे पहुंचेगी।

इसी प्रकार वापसी में गाड़ी संख्या 00884 किसान रेल हावड़ा से 29 अक्टूबर 2020 को 15.00 बजे प्रस्थान करेगी तथा खड़गपुर आगमन 17.30 बजे प्रस्थान 18.00 बजे, टाटानगर आगमन 20.30 बजे प्रस्थान 21.00 बजे, चक्रधरपुर आगमन 22.00 बजे प्रस्थान 22.10 बजे, राउरकेला आगमन 23.25 बजे प्रस्थान 23.55 बजे|

झारसुगुड़ा दूसरे दिन आगमन 01.30 बजे प्रस्थान 01.50 बजे, रायगढ़ आगमन 03.20 बजे प्रस्थान 03.40 बजे, चांपा आगमन 04.40 बजे प्रस्थान 04.50 बजे,  बिलासपुर आगमन 05.50 बजे प्रस्थान 06.10 बजे, रायपुर आगमन 08.00 बजे प्रस्थान 08.20 बजे, दुर्ग आगमन 09.00 बजे प्रस्थान 09.20 बजे, राजनांदगाँव आगमन 09.55 बजे प्रस्थान 10.05 बजे, गोंदिया आगमन 11.20 बजे प्रस्थान 11.30 बजे, इतवारी आगमन 13.30 बजे प्रस्थान 14.30 बजे, सावनेर आगमन 15.45 बजे प्रस्थान 16.00 बजे, सौसर आगमन 16.30 बजे प्रस्थान 16.45 बजे तथा 18.30 बजे छिंदवाड़ा पहुंचेगी| इस गाड़ी में इन सभी स्टेशनों पर किसान / व्यापारी अपना पार्सल चढ़ा व उतार सकेंगे ।

भारतीय रेलवे द्वारा किसानों की मदद करने तथा देश भर में कृषि उत्पादों की तेज ढुलाई सुनिश्चित करने के उद्देश्य से किसान रेल चलाई जा रही है | किसान रेल द्वारा कृषि उत्पाद देश के एक कोने से दूसरे कोने तक आसानी से व न्यूनतम भाड़े के साथ पहुंचाई जा रही है। किसान रेल एक सुरक्षित, विश्वसनीय और तेज परिवहन प्रदान करता है जो किसानों और कारोबारियों के लिए उनके उत्पादों की अच्छी कीमत दिलाने में भी मददगार साबित हो रहा है |

संबंधित पोस्ट

कोरोना लॉकडाउन ने एक गरीब किसान को बना दिया लखपति

सेंसेक्स पहली बार 44,000 के पार, 12,900 के उपर खुला निफ्टी

तमिलनाडु में 35.72 करोड़ रुपये की जीएसटी क्रेडिट धोखाधड़ी के आरोप में 2 गिरफ्तार

भविष्य निधि, बीमा, ग्रेच्युटी व मातृत्व लाभ के नियमों में बदलाव,आपत्ति-सुझाव मांगे

महेंद्र सिंह धोनी अब रांची में झाबुआ का कड़कनाथ मुर्गा बेचेंगे 

मोदी सरकार ने 351 योजनाओं में डीबीटी से कैसे बचाए 1.70 लाख करोड़ रुपये?  

आने वाले वर्षो में 8.7 करोड़ लोगों की नौकरियां खतरे में पड़ सकती हैं: डब्ल्यूईएफ रिपोर्ट

केंद्र ने गैर-राजपत्रित सरकारी कर्मचारियों को दिया 3,737 करोड़ का बोनस

चीन को 40 हजार करोड़ रुपये का व्यापार का झटका देने में जुटे व्यापारी : कैट

2 करोड़ तक के कर्ज पर अब ‘ब्याज पर ब्याज’ से मिली राहत

कोरोनाकाल में भी बड़े वर्ग की आय प्रभावित नहीं हुई : सर्वे

लगातार छठे सत्र में टूटा शेयर बाजार, 3 फीसदी लुढ़के सेंसेक्स, निफ्टी