दलालों के बस में सवार 200 मजदूरों को कसडोल से वापस भेजा गया

दलालों द्वारा मजदूरों को दीगर राज्यों में भेजने का सिलसिला शुरू

महासमुन्द| दिवाली ख़त्म होते ही दलालों द्वारा मजदूरों को दीगर राज्यों में भेजने का सिलसिला शुरू हो गया है|  शासन-प्रशासन द्वारा पलायन नहीं करने के दावे के बीच खुलेआम मजदूरों को कसडोल के रास्ते बिलासपुर रेलवे स्टेशन बसों से ले कर जाते कोई 200 मजदूरों के साथ कसडोल एसडीएम ने पकड़ा है। इन मजदूरों को 3 बसों एवम एक पिकअप से ले जाया जा रहा था।

बता दें कि देश टीवी ने कल ही इस मामले को प्रमुखता से प्रकाशित किया था |किस तरह दलाल मजदूरों को छोटे छोटे गुट बना कर  अन्य प्रांतों के ईंट भट्ठों की ओर  भेज रहे है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दलालों द्वारा कसडोल व पिथौरा विकासखंड के करीबन 200 मजदूरो को कल शर्मा एवम सिंह ट्रेवल्स की तीन बसों  में लादकर उत्तर प्रदेश ले जाने की सूचना के आधार पर रोक कर जांच पड़ताल की गई।

बसों में सवार मजदूरों से बयान दर्ज कर सभी को वापस उनके घर भेजा गया है। इन मजदूरों को कौन ले जा रहा था अज्ञात है।

परन्तु  पिथौरा निवासी किसी नरेंद्र राजपूत द्वारा इन मजदूरों को 3 बसों में बिठाकर यूपी के लखनऊ सहित अन्य इलाके के लिए रवाना किया था।

बहरहाल श्रम विभाग के अधिकारी द्वारा पहुंचकर मजदूरों को वापस अपने गांव भेजने की व्यवस्था की जा रही है।

ज्ञात हो कि बीती रात मजदूर परिवार के कुछ सदस्य पिथौरा पुलिस के एस डी ओ पी एवम थाना प्रभारी को जानकारी दी थी।परन्तु पुलिस अधिकारियों ने साफ कहा कि जब तक पलायन करने वाला कोई मजदूर शिकायत नहीं करता तब तक कार्यवाही नहीं की जा सकती|

बहरहाल कोरोना काल में भले ही अन्य महत्वपूर्ण गतिविधियों में बदलाव हुआ हो परन्तु मजदूरों को दी जाने वाली कथित यातना एवम अन्य प्रांतों में भेजने की व्यवस्था एवम इस मामले में पुलिसिया रवैया जस का तस है।