25 बरस बाद मरवाही में दिखा सफ़ेद भालू, शावक की कुएं में गिरकर मौत

मरवाही के जंगलों में सफेद भालू पहली बार 1995 में मिला था

बिलासपुर| 25 बरस बाद मरवाही में सफेद भालू देखा गया| इस दुर्लभ प्रजाति के सफेद भालू शावक की कुएं में गिरने से मौत हो चुकी थी| शावक की उम्र करीब एक साल की बताई गई है। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंचे वन अमले ने शावक के शव को बाहर निकाला|  

मिली जानकारी के मुताबिक, घटना बिलासपुर संभाग के मरवाही वन परिक्षेत्र के अंडी गाँव में एक किसान की बाड़ी में  बने कुएं में सफेद भालू का शावक गिर गया|  शावक के कुएं में गिरने के बाद मादा भालू की जोर-जोर से चीखने की आवाज सुन ग्रामीण भी बाहर निकल आए, लेकिन किसी ने पास जाने की  हिम्मत नहीं की ।मादा भालू शावक को बचाने की कोशिश करती रही| आखिर में जंगल की ओर चली गई| 

ग्रामीणों की सुचना पर जब सुबह वन विभाग की टीम पहुंची तब तक शावक की मौत हो चुकी थी ग्रामीणों की सहायता से कुएं में गिरे हुए शव को बाहर निकलवाया।

घटना की जानकारी आला अफसरों को भी दे दी गई थी| डी एफओ राकेश मिश्रा और एसडीओ के साथ  वन परिक्षेत्र अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए।

बता दें कि छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में अभी कुछ माह पहले सफ़ेद भालू देखा गया था| काफी दिनों तक यह चर्चा का विषय बना रहा | कटहल खाने  पहुचे इस सफ़ेद भालू को बड़ी मालिक ने अपने कैमरे में कैद कर लिया था | कैमरे में कैद करने वाले इलियास अहमद सिद्धिकी ने बताया कि पिछले एक महिने से यह सफेद भालू उनके  घर की बाड़ी में कटहल खाने आ रहा था| देखें विडिओ- कटहल खाने पहुंचा सफ़ेद भालू  

बताया जाता है कि मरवाही के जंगलों में सफेद भालू पहली बार 1995 में मिला था। उसे इंदिरा उद्यान पेंड्रा के रेस्क्यू सेंटर में रखा गया था जिसे  भोपाल के चिड़ियाघर में रखा गया था|