छत्तीसगढ़ में कोरोना के 6 मरीज मिलने की हुई पुष्टि,किया गया आइसोलेट

बाहर घूमने वालों पर प्रशासन सख्त

रायपुर | देश में जहाँ कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। वहीँ इससे छत्तीसगढ़ में अछूता नहीं है। बीते 24 घंटे में प्रदेश के 3 स्थानों से कोरोना संक्रमण के नए मरीजों की पुष्टि शासन स्तर पर हो चुकी है। रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर में नए मामले सामने आए हैं। स्वस्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी डॉ. अखिलेश त्रिपाठी के मुताबिक प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर अब 6 हो गई है।

रायपुर और दुर्ग के मरीज को बीती रात रायपुर के एम्स में भर्ती करवाकर उनका इलाज भी शुरू कर दिया गया है। वहीँ बिलासपुर के मरीज का इलाज स्थानीय अस्पताल में ही किया जा रहा है। बिलासपुर की मरीज 50 वर्षीय महिला हैं,दुर्ग का मरीज 50 वर्षीय पुरुष है और वहीँ रायपुर के मरीज को बुजुर्ग व्यक्ति है।

उल्लेखनीय है कि रायपुर में पहली कोरोना संक्रमित युवती 19 मार्च को इलाज के लिए एम्स में भर्ती हुई थी। तो वहीं राजनांदगांव में कोरोना पॉजिटिव मिले मरीज का इलाज भी राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज अस्पताल में किया जा रहा है।

महासमुंद का व्यक्ति पर संदेह
इधर 11 मार्च को रायपुर निवासी कोरोना पॉजिटिव युवती को एयरपोर्ट से लेकर घर आया था उसे भी महासमुंद जिला प्रशासन ने आइसोलेट किया है। बताया जा रहा है कि कार ड्राइवर महासमुंद के ग्राम पडक़ीपाली विकासखंड बागबाहरा जिला महासमुंद का निवासी है। ये व्यक्ति युवती को घर छोड़कर अपने गांव लौटा था। हलाकि ये शख्स कब घर लौटा इससे ग्रामीण अनजान थे। उक्त व्यक्ति की जानकारी मिलने के बाद प्रशासन हरकत में आया और ग्रामीणों को समझा बुझाकर ग्राम पडक़ीपाली को लॉक डाउन किया गया है। साथ ही संदेही एवं उनके परिवार के चार अन्य सदस्यों को भी अलग कमरे में रखवाया गया है। वहीँ सभी पांचों सदस्यों का सैंपल कोरोना जांच के लिए रायपुर भेज दिया गया है।

प्रशासन ने बरती सख्ती
लॉक डाउन और धरा 144 का उल्लंघन करनेवालों पर सख्ती कड़ा कर दिया गया है। प्रशासन बारम्बार अपील कर रही है की बेवजह घूमने वाले घर में ही रहें अन्यथा पुलिस कड़ी कार्यवाही करेगी। सुबह नौ बजे के बाद आवश्यक सामग्री खरीदने और केवल एक शख्स के घर से बाहर निकलने की अनुमति प्रशासन ने दिया है जो शाम 5 बजे तक जारी रहेगी। इसके बाद कोई भी व्यक्ति को घर से निकलने की अनुमति नहीं है।