बैंक के सर्वर में खराबी, करोड़ों रुपए हो गए ट्रांसफर

छग राज्य ग्रामीण बैंक का मामला, ग्राहक सेवा केन्द्र के संचालकों के खाते में आई राशि

बैकुण्ठपुर। छग राज्य ग्रामीण बैंक के सर्वर में तकनीकी खराबी आने के कारण करोड़ों रूपए का ट्रांजेक्शन सीएससी और एस बैंक से संचालित ग्राहक सेवा केन्द्र के संचालकों के खाते में हो गए। इसकी भनक लगते ही बैंक में हड़कंप मच गया। कोरिया जिले में ही करीब 1 करोड़ रूपए का ट्रांजेक्शन इन संचालकों के खातों में हो गया है, वहीं पूरे प्रदेश में 8 करोड़ रूपए का ट्रांजेक्शन होना बैंक के अधिकारियों ने बताया है। अब इस राशि को वसूली करने के लिए छग राज्य ग्रामीण बैंक के अधिकारियों ने ग्राहक सेवा केन्द्र के संचालकों को नोटिस जारी करते हुए खाते के लेन-देन पर रोक लगा दी है। पूरा मामला 13 दिसंबर दोपहर 1 बजे के बाद का बताया जा रहा है। बैंक के मुम्बई सर्वर में खराबी आने के कारण छग राज्य ग्रामीण बैंक से करीब 1 करोड़ का ट्रांजेक्शन बैंकिंग कार्यो के लिए जुड़े ग्राहक सेवा केन्द्र संचालकों के खाते में हो गया, वहीं पूरे प्रदेश में 8 करोड़ का ट्रांजेक्शन सर्वर खराबी के कारण हुआ है, इसकी भनक बैंक अधिकारियों को लगते ही हड़कंप मच गया है, आनन-फानन में मुम्बई से सर्वर को तत्काल डाउन कराया गया,ताकि और भी ट्रांजेक्शन नहीं हो सकें।

ऐसे हुआ मामले का खुलासा
सीएससी और एस बैंक से संचालित ग्राहक सेवा केन्द्रों के द्वारा ग्राहकों को उनके जरूरत के हिसाब से रूपए स्थानीय स्तर पर दिए जाते हैं। इन खातों में छग राज्य ग्रामीण बैंक से रूपए आने के बाद सर्वर खराबी के कारण कोई ग्राहक यदि एक हजार रूपए निकाल रहा था, तो संचालकों के खाते से मात्र 10 रूपए की निकासी हो रही थी। दो जीरों को कम्प्यूटर आॅकलन नहीं कर रहा था। ऐसे में देखते ही देखते लाखों रूपए का ट्रांजेक्शन पलक झपकते ही ग्राहक सेवा केन्द्र संचालक कर अपने रिश्तेदारों के खाते में कर लिए और किसी को खबर नहीं लगने दिए।

विश्वसनीयता पर उठे सवाल
कोरिया जिले के पांचों ब्लाकों में काफी संख्या में सीएससी केन्द्र और एस बैंक से संचालित बी.सी प्वाइंट संचालित हो रहे हैं। इन खातों के जरिए ग्राहकों से लेन-देन किया जाता है। ऐसे में एकाएक लाखों रूपए आने की जानकारी बैंक प्रबंधन को न देकर कई केन्द्र संचालक अपने रिश्तेदारों के खाते में दनादन रूपए ट्रांसर्फर कर लिए तो किसी ने रुपए आहरित भी किया है। इन सभी की जानकारी छग राज्य ग्रामीण बैंक के अधिकारियों ने जुटा ली है। ऐसे में अब इन संचालकों के विश्वसनीयता पर भी सवाल उठने लगे हैं। स्वयं बैंक के अधिकारियों ने भी इनके कार्यप्रणाली पर काफी नाराजगी जाहिर की है। बैंक अधिकारियों का कहना है कि, यदि संचालक तत्काल रुपए नहीं लौटाए तो उनके विरुद्ध एफआईआर की कार्रवाई भी कराई जाएगी। इस तरह के गड़बड़ी की जानकारी इन संचालकों को तत्काल बैंक को देनी चाहिए थी।

संचालकों के खाते में आए लाखों रूपए
भरतपुर-सोनहत विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत वनांचल इलाके में संचालित ग्राहक सेवा केन्द्रों में लाखों रूपए खाते में आ गए, इसकी जानकारी मिलने पर हड़कंप मच गया। छग राज्य ग्रामीण बैंक के सर्वर में तकनीकी गड़बड़ी होने के कारण बैंक का रूपए विभिन्न बैंकों के ग्राहक सेवा केन्द्रों, कियोस्क एवं फिनो के बैंक खाता में चला गया है। अब इनके संचालकों से वसूली के लिए बैंक प्रबंधक ने आॅनलाइन नोटिस जारी कर दिया है। मामला का जांच एवं निराकरण होने तक बैंक खाता से रूपए नहीं निकालने की सलाह दी गई है। बैंक मैंनेजर अमित प्रसाद ने बताया कि इन सभी संचालकों से रूपए वसूलने की कार्रवाई की जा रही है। सभी से रूपए वसूले जाएंगे।

करीब 1 करोड़ हुए हैं ट्रांसफर, की जा रही वसूली
हमारे मुम्बई से सर्वर में खराबी आने के कारण करीब 1 करोड़ का ट्रांजेक्शन कोरिया में संचालित सीएससी एवं एस बैंक के अंतर्गत आने वाले बीसी प्वाइंट के संचालकों के खाते में हो गया। इस दौरान खाते से रूपए निकालने में दो जीरो को कम्प्यूटर छोड़कर गिन रहा था। सभी की जानकारी एकत्रित कर ली गई है, इन्हें नोटिस जारी कर वसूली किया जा रहा है। रूपए ट्रांसर्फर करने वाले अभी चार खाताधारकों से रकम भी वसूला गया है। पूरे प्रदेश में 8 करोड़ ट्रांजेक्शन खराब सर्वर के कारण होने की जानकारी मिली है।
अयोध्या प्रसाद सोनी
                                                     क्षेत्रीय प्रबंधक छग राज्य ग्रामीण बैंक कोरिया