बस्तर: 17 वर्षीय आदिवासी बाला के साथ लगातार गैंगरेप, साथियों को परोसता रहा प्रेमी 

गर्भवती हुई तो मामला खुला, थाने में ही प्रसव पीड़ा,अस्पताल में बच्चे को जन्म दिया

धर्मेंद्र महापात्र ,जगदलपुर|  बस्तर में सामूहिक बलात्कार का एक मामला प्रकाश में आया है|9 माह पहले एक नाबालिग युवती के साथ चार युवकों ने लगातार गैंगरेप किया और मामले को दबाने के लिए लगातार दबाव बनाया जाता रहा| इस बीच नाबालिग युवती गर्भवती हो गई| आरोपियों ने पीड़िता और उसकी माँ को जान से मारने की धमकी देकर मामले को रफा दफा कराने की पूरी कोशिश करते रहे|

मामला उजागर तब हुआ जब युवती के डिलीवरी का टाइम आया|पुरे 9 माह तक आरोपियों ने माँ और पीड़िता को गांव में ही डरा धमका कर रखा हुआ था अंततः किसी तरह माँ बेटी परपा थाना पहुंचे और मामले की शिकायत दर्ज करवाई|

थाने में ही प्रसव पीड़ा होने के बाद युवती को पुलिस कर्मियों से अस्पताल ले जा कर डिलवरी करवाया,नाबालिक ने एक बच्चे को जन्म दिया है.जो गंभीर है|

पीड़िता का भाई दूसरे गांव में रहता था मामले की जानकारी मिलने के बाद वह भी बहन के साथ हुये अन्याय के खिलाफ लड़ने सामने आ गया|भाई को इस पुरे मामले की जानकारी भी काफी देर से मिली,जिसके चलते मामला उजागर होने में काफी वक्त लगा|

पीड़िता के अनुसार गांव के एक युवक के साथ उसका प्रेम प्रसंग था एक दिन शादी समारोह से उसे ले जाकर सुनसान इलाके में  बलात्कार किया,इसके बाद हर दिन उसके साथ संबंध बनाता रहा| हद तो तब हो गई जब आरोपी ने अपने साथियों को बुलाकर उनके सामने नाबलिक को परोसना शुरू कर दिया|

उसके बाद से लगातार चारों युवक बदनाम करने और जान से मारने की धमकी देकर बलात्कार  करने लगे| यह सिलसिला लगातार 2 माह तक चलता रहा| इस बीच पीड़िता प्रेग्नेंट हो गई| इसकी जानकारी मिलने के बाद आरोपी पीड़िता के घर जाकर मामले की जानकारी पुलिस को ना देने डराने दमकाने लगे|

एक तरह से आरोपियों ने माँ बेटी को बंधक बना रखा था| आरोपी संपन्न घरो से थे लिहाजा गांव के पंचायत प्रतिनिधि लगातार पीड़िता और उसकी माँ पर अनावश्यक दबाव बना रहे थे लेकिन आखिरकर पीड़िता ने हिम्मत दिखाई और आरोपियों को सलाखों के पीछे भेजने की तैयारी क|

मामले में परपा थाने में 4 आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर चारों को गिरफ्तार कर लिया गया|आरोपियों में से तीन जेल जा चुके है जबकि एक आरोपी का कोरोना रिपोर्ट पॉजिटव आने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया|आरोपियों पर 376 की धारा के साथ साथ पास्को एक्ट भी लगाया गया है|