गैंगरेप और उसका वीडियो बनाने वाले 5 को उम्रकैद

नारायणपुर जिले की साल भर पुरानी घटना

जगदलपुर। कोण्डागांव के अपर सत्र न्यायाधीश (एफटीसी) शान्तनु कुमार देशलहरे ने नारायणपुर जिला की एक नाबालिग के साथ गैंगरेप व वीडियो बनाने के मामले में 5 आरोपियों को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है।
प्रकरण में शासन की ओर से विशेष लोक अभियोजक नरेश नाईक ने बताया कि, 18 जून 2019 को नारायणपुर जिला की एक नाबालिग के साथ गैंगरेप हा था। घटना के बाद दिनेश नेताम, लुदरूराम उर्फ रूधर मीणा, धनेश्वर उर्फ धने कश्यप, मुन्नुराम उर्फ मुन्ना परिहार, अजय कोर्राम और एक नाबालिग के विरूद्ध पॉक्सो और आईटी एक्ट का मामला पंजीबद्ध किया गया था।

अपर सत्र न्यायालय (एफटीसी) न्यायाधीश शान्तनु कुमार देशलहरे ने प्रकरण का विचारण कर आरोपी लुदरूराम, धनेश्वर, दिनेश नेताम, अजय कोर्राम को आजीवन सश्रम करावास व सभी को एक-एक लाख रुपए के अर्थदण्ड और आरोपी मुन्नाराम उर्फ मुन्नू परिहार को धारा 376 के तहत आजीवन कारावास व एक लाख रुपए के अर्थदण्ड, आईटी एक्ट के लिए 5 वर्ष के सश्रम कारावास और पांच लाख रुपए के अर्थदण्ड का आदेश दिया है।

वहीं इस मामले में एक आरोपी जिसकी वर्तमान में 19 वर्ष उम्र हैं, वह घटना के दौरान नाबालिग था। ऐसे में किशोर न्याय बोर्ड नारायणपुर ने अपराध की गंभीरता के आधार पर उसे बालक न्यायालय के समक्ष भेजा। न्यायालय ने उसे विधि का उल्लघंन करना पाया और धारा 376 (घ) व पॉक्सो की धारा 17 के तहत क्रमश: 20-20 वर्ष के साधारण कारावास और एक लाख रुपए के अर्थदण्ड से दण्डित किया है। फिलहाल नियम अनुसार विधि का उल्लघंन करने वाले बालक को 21 वर्ष की आयु पूर्ण होने तक बाल सम्प्रेक्षण गृह में रखे जाने का आदेश भी पारित किया गया है।