आजादी के बाद मिला तोहफा, मंत्री कवासी लखमा ने किया गोरली सड़क का शिलान्यास

आजादी के बाद इलाके में नही बनी थी सड़क 20 से ज्यादा गांवों के ग्रामीणों को लाभ होगा

सुकमा से धर्मेन्द्र महापात्र| बस्तर संभाग  के सुकमा जिले के अति नक़्सल प्रभावित इलाके गोरली को जोड़ने वाली सड़क का भूमि पूजन-शिलान्यास  मंत्री कवासी लखमा ने किया है|  20 से ज्यादा गांव के लोगो को इसका लाभ  मिलेगा|

मंत्री कवासी लखमा ने गादीरास से गोरली जाने वाले मार्ग का चौड़ीकरण, मजबूतीकरण के कार्य का शिलान्यास किया।  शिलान्यास  के अवसर पर  मंत्री कवासी लखमा ने  कहा कि जिले के विकास में कोई कमी नही आएगी। कांग्रेस सरकार ने आम आदमी के हित मे कई योजनाएं संचालन कर रही है।

वही दीवाली मिलन कार्यक्रम का आयोजन किया गया था जिसमे नेता व कार्यकर्ता शामिल हुए। मंत्री कवासी लखमा के गृहग्राम नागारास में दीवाली मिलन कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

इसके बाद उसके बाद दीवाली मिलन कार्यक्रम के आयोजन में शामिल हुए। दीवाली मिलन कार्यक्रम में आसपास के हजारों ग्रामीण शामिल हुए। साथ ही बीजापुर विधायक विक्रम मंडावी भी पहुँचे थे।

इस दौरान हरीश कवासी, करण देव, महेश्वरी बघेल, राजू साहू समेत काफी संख्या में कांग्रेस के नेता दीवाली मिलन कार्यक्रम में शामिल हुए।

सड़क निर्माण से इलाके में होगा विकास – मंत्री कवासी लखमा

कवासी लखमामंत्री कवासी लखमा ने दीपावली की शुभकामनाएं दी और कहा कि गोरलीसड़क निर्माण से इलाके में विकास होगा साथ ही आवागमन भी बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद हर वर्ग के लिए योजनाएं बनाई गई। आज किसानो को धान के दाम व बोनस दिया जा रहा है। कोरोनाकाल में जहां पूरे देश की अर्थव्यवस्था चरमरागई है लेकिन छत्तीसगढ़ में कर्मचारी व अधिकारियो बराबर वेतन दिया गया। वही सुकमा में महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए इमली का चस्का व शबरी मार्ट योजना चलाई जा रही है जिसका फायदा मिल रहा है।

बता दें कि बस्तर का सुकमा जिला अति संवेदनशील नक्सल प्रभावित जिला है| नक्सली सडक बनने नहीं  देते या बने सड़कों को काट देते हैं जिससे सुरक्षा बल  इन इलाकों में न पहुच सकें| यहाँ आये दिन पुलिस -नक्सली मुठभेड़ होते रहते हैं|