रेत ठेकेदार ने कहा, बैगर फीटपास करें रेत सप्लाई, छुड़वाने की जिम्मेदारी मेरी  

वीडियो हुआ वायरल ,ट्रैक्टर संचालकों ने कलेक्टर, मंत्री को सौपा ज्ञापन

धर्मेन्द्र महापात्र,सुकमा| छतीसगढ़ के नक़्सली प्रभावित इलाके में रेत ठेकेदार के द्वारा ट्रैक्टर संचालकों से फीटपास के नाम से निर्धारित दर से अधिक राशि वसूली की जा रही है जिस कारण शासन को रोज लाखो का राजस्व का नुकसान हो रहा है जिसके खिलाफ खनिज विभाग एवं कलेक्टर से ट्रैक्टर संचालकों शिकायत कर चूके है लेकिन कोई समाधान नहीं निकाला है।

इधर ट्रैक्टर संचालकों और रेत ठेकेदार के बीच इस पूरे मामले लेकर एक बैठक हुई। जिसका विडियो सामने आया है। जिसमें रेत ठेकेदार के द्वारा ट्रैक्टर संचालकों को बिना फीटपास के 4 सौ रूपऐ में रेत परिवहन करने का बात रखी गई। दिन में एक लोड का लोडिंग फीटपास लेकर दिन भर परिवाहन करों, और बैगेर फीट पास के 4 सौ रूपये देकर आप रेत परिवाहन कर सकते है।

आप लोगों को किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं होगा। अगर कही विभागीय कार्यवाही हुई तो गाडी छुड़वाने की जिम्मेदारी मेरी है, और विश्वास नहीं है, तो ट्रैक्टर संचालक अपने पास 25 हजार रूपये रखे। अगर ट्रैक्टर पकडे जाने पर उसी पैसे से गाड़ी छुड़वाले। लेकिन ट्रैक्टर संचालको ने अपनी बात पर अडे रहे। जो शासन द्वारा रेत परिवाहन के लिए लोडिंग के साथ निर्धारित दर है, उसी के हिसाब से प्रति घनमीटर 176.60 रूपये हम देने के लिए तैयार है। जबकि एक ट्रैक्टर में तीन घनमीटर 520.80 रूपये है, और ठेकेदार द्वारा बिना लोडिंग के 600 रूपये प्रति ट्रैक्टर वसूली की जाती है, जिसमें लोडिंग का 293 रुपये और 80 रुपये अतिरिक्त वसूली की जा रही है। जिसे अब ट्रैक्टर संचालक देने से साफ मना कर दिए है। शासन द्वारा निर्धारित दर देने की बात कही।

बैगर फीटपास के ओडिशा परिवहन
जिले के पोडिसी राज्य ओडिशा मलकानगिरी जिले में प्रति दिन 20 से 25 ट्रैक्टर बैगर फीटपास के रेत परिवाहन होता हैं। जिसमें प्रतिदिन लगभग 75 घनमीटर रेत परिवहन किया जाता हैं। वही प्रति दिन शासन को हजारों रूपाये को ठेकेदार चुना लगाने का काम किया जा रहा है। बैगर फीटपास के ओडिशा के ट्रैक्टर संचालक अपनी ट्रैक्टर को बचाने के लिए झापरा वनोपज नाका में 2 सौ रूपये देकर रेत परिवाहन करते है। वहीं जिले में रेत की अवैध उत्खनन कर लाखों रुपए राजस्व राशि का चूना लगाने का काम ठेकेदार कर रहा है।

ट्रैक्टर संचालक राज कुमार ने बताया कि रेत ठेकेदार विगत कई महिनों से अपनी मनमानी कर रहा है। रेत ठेकेदार अवैध रूप से उगाई करते आ रहा हैं। कच्चा बिल पर रेत परिवाहन करने के लिए ठेकेदार के द्वारा जोर डाला जा रहा है, हम सौ रुपए बचने के अवैध परिवहन नही करेंगे। उन्होंने बताया कि ठेकेदार को खजिन विभाग से शासन द्वारा निर्धारित दर की दस्तावेज दिखाया गया। उसके बाद ठेकेदार माने को तैयार नहीं है, और अवैध वसूली कर रहा हैं। विरोध में ट्रैक्टर संचालको ने रेत परिवहन करना पूरी बंद कर दिया है। शासन के निर्धारत दर पर ठेकेदार रेत नहीं देता है, तब रेत परिवाहन नहीं करेंगे।

ट्रैक्टर संचालक मिराज खान ने बताया कि रेत ठेकेदार के द्वारा अवैध वसूली के खिलाफ कलेक्टर को ज्ञापन दिया गया। 520.20 लोडिंग के साथ निर्धारत हैं, जबकि ठेकेदार के द्वारा विदाउट लोडिंग के 600 रूपये लिया जा रहा हैं। इसके विरोध में पांच दिनों से रेत परिवाहन बंद है, शासन द्वारा निर्धारत दर में देने पर ही रेत परिवहन किया जाऐगा। नहीं तो विरोध आगे भी जारी रहेंगा।

ट्रैक्टर संचालक शेख अब्दुल अजीज ने बताया कि रेत परिवहन से 150 अधिक ट्रैक्टर संचालको को परिवार चलता हैं इसे जुडे 150 ट्रैक्टर चालक, करीब 700 से अधिक मजदूर को रोजगार जुडा हुआ है। ठेकेदार की अवैध उगाही के विरोध में सभी लोग आगे हैं, अगर ठेकेदार शासन के निर्धारित दर पर नहीं रहेगा तो आने वाले दिनों में हमारा प्रदर्शन और भी उग्र तरीके से जारी रहेगा