सुकमा: आईईडी ब्लास्ट में शामिल 5 नक्सली कांसाराम के जंगलों से गिरफ्तार

आईईडी ब्लास्ट की घटना में  सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेण्ट शहीद हुए थे

जगदलपुर| बस्तर संभाग की  सुकमा पुलिस ने नक्सल ऑपरेशन में शनिवार को बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए  नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए नक्सली आईईडी ब्लास्ट की घटना में शामिल थे‚ जिसमें सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेण्ट शहीद हुए थे।

सुकमा पुलिस  के अनुसार‚ नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना पर किस्टाराम थाने व वेलकनगुड़ा कैम्प से डीआरजी‚ एसटीएफ‚ सीआरपीएफ 212 बटालियन और कोबरा 208 वाहिनी के जवान ज्वाइंट ऑपरेशन पर निकले थे। इसी दौरान कांसाराम के जंगलों में  संदिग्ध व्यक्ति पुलिस पार्टी को देखकर भागने लगे।

जंगल में जवानों को देखकर भागने व छुपने का प्रयास कर रहे 5 आरोपियों को फोर्स ने घेरांबदी कर पकड़ा। पूछताछ करने पर इन्होंने अपना नाम क्रमशः कोमराम लच्छू पिता कोमराम रामकृष्ण (जनमिलिशिया सदस्य)‚ सोढ़ी गंगा पिता सोढ़ी हुर्रा (जनमिलिशिया सदस्य) और माड़वी देवा पिता माड़वी पोज्जा (जनमिलिशिया सदस्य) तीनों निवासी आमापेंटा थाना किष्टाराम बताया। अन्य दो के नाम माड़वी गंगा और माड़वी दुधवा है |पकड़े गए नक्सली आईईडी ब्लास्ट की घटना में शामिल थे‚ जिसमें सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेण्ट शहीद हुए थे।

बता दें बस्तर पुलिस ने नक्सलियों के खिलाफ अभियान जारी रखे हुए है|

उधर दंतेवाडा जिले के अरनपुर थाना क्षेत्र के नहाड़ी-ककाड़ी के जंगल से एक महिला नक्‍सली को गिरफ्तार किया गया है। उसकी पहचान नहाड़ी जनमिलिशिया कमांडर भीमे के रूप में हुई है। उस पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित था। पूछताछ के बाद महिला ने अपना अपराध स्‍वीकार करते शामिल अन्‍य वारदातों का जिक्र किया है। इलाके में अधिकतर बम उसके द्वारा ही लगाए गए हैं।उसने बताया कि फोर्स को नुकसान पहुंचाने वह करका-ककाड़ी के बीच पगडंडी में पांच किग्रा का प्रेशर बम लगाया था। इसकी चपेट में आकर शुक्रवार को एक जवान घायल हो गया।   पकड़ी गई महिला नक्‍सली 2013-14 से लेकर अब तक दर्जनों वारदात में शामिल रही है।  वह  बम लगाने  में भारी माहिर  है|