Video:बड़े नक्सल कैडर्स के दल को धूल चटाया जवानों ने, 72 घन्टे चला संयुक्त अभियान

सुकमा-दंतेवाड़ा सीमा पर माओवादी कमांडर एसजेडसी श्याम दादा व डीवीसी देवा के साथ मुठभेड़

धर्मेन्द्र महापात्र, जगदलपुर| बस्तर में नक्सलियों के विरुद्ध चलाए जा रहे विशेष नक्सल विरोधी अभियान के तहत  सुकमा तथा दंतेवाड़ा के सीमावर्ती क्षेत्र में दरभा डिवीजन कमेटी के बड़े लीडरों की उपस्थिति की सूचना पर फोर्स ने एक बड़ा अभियान चलाया जो 72 घन्टे का था|सुकमा-दंतेवाड़ा के सीमावर्ती क्षेत्र में 02 अलग-अलग जगहो पर यह मुठभेड़ हुई|

सुकमा और दंतेवाड़ा से डीआरजी, एसटीएफ, 201 कोबरा एवं 223 सीआरपीएफ की संयुक्त पार्टी को अलग-अलग बेस कैंप से ग्राम गोगुंडा,हिड़मा,बेड़मा,नागाराम, पुजारीपारा,गुमोड़ी,पोरो गुमोडी,पोरो हिड़मा,नहाड़ी,ककाड़ी व आसपास के जंगल-पहाड़ी क्षेत्र की ओर रवाना किया गया|

3 दिनों के इस अभियान में गुरुवार को गोगुंडा और आज  25 दिसंबर को ककाड़ी में पुलिस पार्टी के साथ नक्सलियों की मुठभेड़ हुई|

मुठभेड़ में पुलिस को भारी पड़ता देख कर नक्सली कैम्प छोड़कर भाग खड़े हुए| घटनास्थल पर जगह-जगह खून के धब्बे तथा घसीटने के निशान से पता चलता है कि लगभग 4 से 5 नक्सली दोनों घटनाओं में मारे गए हैं या घायल हुए हैं|

मुठभेड़ के बाद पुलिस पार्टी ने दोनों ही स्थानों पर आईईडी,पिट्ठू बैग,जिलेटिन रॉड, कोर्डेक्स वायर,डेटोनेटर,इलेक्ट्रिक वायर, रेडियो,दवाईयां,पटाखे, नक्सली साहित्य व अन्य दैनिक उपयोगी सामग्री बरामद किया गया है|

जवानों ने नक्सलियों के दोनो कैम्पों को ध्वस्त कर दिया है|

इधर अभियान को पूरा कर पुलिस पार्टी सर्चिंग करते हुए आगे बढ़ ही रही थी कि ग्राम ककाड़ी के पास नक्सलियों के द्वारा लगाये गये आईईडी ब्लास्ट से सुकमा डीआरजी का   जवान सौलम नागेश घायल हो गया |  उसे दंतेवाड़ा के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

हाल ही में  किरंदुल और मिरतुर थाना के  ग्राम तिमेनार-इंड्रीपाल के जंगल में नक्सलियों के कैम्प ध्वस्त किया था| पुलिस  को भारी पड़ता देख नक्सली   भाग निकले|  कैम्प से टिफिन बम, पाईप बम, वायर, नक्सली वर्दी, दवाईयां ,इन्फ्रारेड थ्रोमेटर, नक्सली साहित्य, बैनर, पोस्टर, पिट्ठू, प्रशिक्षण सामान, बर्तन एवं अन्य  सामग्री बरामद की गई थी|