बस्तर: डीआरडीओ के प्रस्तावित नये आवासीय कॉलोनी का विरोध शुरू

डीआरडीओ के आवासीय परिसर को शिफ्ट करने की कवायद कई वर्षों से जारी है

धर्मेन्द्र महापात्र, जगदलपुर| बस्तर में भारत सरकार के रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन(डीआरडीओ)के आवासीय परिसर के लिए जद्दोजहद तेज हो गई है|जिस जगह पर डीआरडीओ अपना आवासीय क्षेत्र बनाना चाहता है,वहां के लोग अब विरोध पर उतर आए हैं|

दरअसल डीआरडीओ को जिला प्रशासन ने जहां जमीन देने का आश्वासन दिया है| वहां  के लोग जंगल(गांव वालों द्वारा किया गया पौधारोपण )को काट कर कंक्रीट का जंगल बनाये जाने के विरोध में उतर आये है|

ग्रामीणों का कहना है कि  वन विभाग ने गांव वालों की मदद से जिस सिद्द्त से 20 सालों से बांस एवं अन्य पौधे लगाकर शहर के अंदर जंगल बनाया है उसकी बलि  चढ़ने नही देंगे|

दरसअल उड़ान योजनातंर्गत शासन ने एयरपोर्ट निर्माण के बाद डीआरडीओ को अलग से आवासीय परिसर बनाने के लिए जमीन उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया था|

इसी बीच परपा इलाके में वन विभाग के बांस उद्यान की 100 एकड़ जमीन पर प्रशासन की नजर पड़ी और डीआरडीओ को दिये जाने वाले जमीन की तलाश यहीं रोक दी गई|

ग्रामवासियों को बिना सूचना दिये कल ग्राम सभा का भी आयोजन कर दिया गया|

आयोजित ग्राम सभा में ही डीआरडीओ को जमीन देने का विरोध शुरू हो गया|गाँव वालों का कहना है कि ग्राम सभा का किसी प्रकार का कोई ऐलान अभी तक नही हुआ है|कुछ लोगों को फोन पर सूचना ही दी गई|

मगर गाँव वालों को इसकी जानकारी नही है.वहीं प्रभारी तहसीलदार श्री सिरमौर से संपर्क करने पर उन्होंने कहा कि कलेक्टर द्वारा आदेश के बाद उक्त ग्राम सभा की कार्यवाही की जा रही है|

गांव के किसान राजेश राय के अनुसार गांव में कई वर्षों से बांस काजू व अन्य प्रजाति के पौधे वन विभाग के माध्यम से लगाए गए और अब यह पौधे काफी बड़े हो चुके हैं इतने घने एवं सघन वृक्षारोपण को काटकर किसी को भूमि आबंटित करना उचित नहीं है|इसीलिए ग्राम पंचायत द्वारा उक्त प्रक्रिया को खारिज करने की मांग की जा रही है|

दरअसल ग्राम परपा स्थित 39.7 हेक्टेयर खसरा नंबर 121,124,127 और 129 को भारत सरकार के रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन डीआरडीओ को राष्ट्रीय लोक हित में आवास विभाग एवं अनुसंधानात्मक संरक्षण हेतु ग्राम सभा की सहमति एवं अनापत्ति पत्र दिये जाने बाबत शुक्रवार को ग्राम सभा का आयोजन किया गया था|

आनन-फानन में आयोजित इस सभा में ग्राम के कुछ लोग ही पहुंच पाए थे| उक्त सूचना आसपास के इलाकों को भी नहीं दी गई|इस बात की जानकारी कांग्रेस के नेता राजेश राय को भी पहुंची उन्होंने गांव जाकर डीआरडीओ को दिए जाने वाले भूमि का विरोध किया| गांव वालो के विरोध के बाद फिलहाल ग्राम सभा की कार्यवाही स्थगीत कर दी गई है|

गांव वालों का कहना है कि हरे-भरे जंगल को डीआरडीओ आवसीय कॉलोनी के लिए काटने नहीं दिया जाएगा| ग्राम वासियों ने बताया कि हरे भरे वृक्षों को काटकर आवासीय परिसर बनाना अनुचित है| इसका समस्त ग्रामवासी विरोध करेंगे,आवश्यकता पड़ी तो वे धरना प्रदर्शन को भी तैयार हैं|

दरअसल जगदलपुर में एयरपोर्ट निर्माण होने के बाद से डीआरडीओ के आवासीय परिसर को शिफ्ट करने की कवायद कई वर्षों से जारी है| ग्राम नियनार में भी जमीन तलाशी गई थी मगर उसमे जिला प्रशासन कामयाब नहीं हो पाया|

प्रशासन द्वारा अब ग्राम परपा में आवासीय परिसर के लिए चुना गया है, जिस स्थान को चुना गया है वह वन विभाग के वृक्षारोपण योजना में शामिल है|

संबंधित पोस्ट

Video-बस्तर:  IED ब्लास्ट में सीएएफ जवान शहीद

बस्तर :आईटीबीपी के एक और जवान की ख़ुदकुशी, खुद को गोली मार ली  

बस्तर : किसानों के समर्थन में भैरमगढ़ में ट्रैक्टर रैली निकली

बस्तर: बोधघाट परियोजना का फिर विरोध, जुट रहे आदिवासी

छतीसगढ़ बस्तर के कोंडागाव में 22 बच्चे कोरोना पॉजिटिव

बस्तर: नक्सलियों ने अपहरण के बाद एंबुलेंस चालक की कर दी हत्या

बस्तर:  ब्लास्ट के बाद मुठभेड़, जवान जख्मी, एक नक्सली मारा गया

बस्तर: कलेक्टर, एसपी और आला अधिकारियों ने बजाया आदिवासी वाद्ययंत्र   

बस्तर : ओडिशा से एम पी जाते ट्रक से 5 क्विंटल गांजा बरामद

बस्तर: नक्सली भी कोरोना की चपेट में, ध्वस्त कैम्प में मिले सामानों से हुआ खुलासा 

बस्तर: आईईडी ब्लास्ट में सीआरपीएफ कोबरा बटालियन का अधिकारी घायल

बस्तर: बीजापुर जिले में इनामी नक्सली डिप्टी कमांडर गिरफ्तार