इंदिरा गांधी की जयंती पर बोले भूपेश, दूर दृष्टि, कड़ी मेहनत और पक्का इरादा हो मूलमंत्र

मुख्यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जयंती पर दी श्रद्धांजलि

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने देश की पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी को उनकी जयंती के अवसर पर विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा है कि इंदिरा गांधी ने हमें दूर दृष्टि, कड़ी मेहनत और पक्का इरादा का रास्ता बताया। प्रदेश और देश के विकास के लिए यही हमारा मूलमंत्र होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम समृद्ध छत्तीसगढ़ बनाना चाहते हैं। इसके लिए सबकी भागीदारी जरूरी है। मुख्यमंत्री आज यहां न्यू सर्किट हाउस में छत्तीसगढ़ में कार्यरत स्वैच्छिक संस्थाओं के संगठन ’वानी’ द्वारा इंदिरा गांधी की जयंती पर आयोजित विकास सम्मेलन को सम्बोधित कर रहे थे।

सीएम भूपेश बघेल ने कहा है कि स्वैच्छिक संस्थाएं यदि शासकीय योजनाओं से जुड़ना चाहती हैं, तो उनका स्वागत है। स्वैच्छिक संस्थाएं गांवों में लोगों को प्रशिक्षण देने का और ग्रामीणों को स्वावलम्बी बनाने का काम करें। यह सुनिश्चित किया जाए कि अधिक से अधिक ग्रामीणों को योजनाओं का लाभ मिले।

अखंडता की रक्षा के लिए दिया बलिदान
मुख्यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि उन्होंने आजीवन गरीबों और समाज के कमजोर वर्गों के उत्थान के लिए काम किया और देश की एकता और अखण्डता की रक्षा के लिए अपना जीवन न्यौछावर कर दिया। श्रीमती गांधी ने दूरदृष्टि और पक्के इरादे के साथ देश को नई दिशा प्रदान की। चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में देश का कुशलतापूर्वक नेतृत्व करते हुए अंतर्राष्ट्रीय पटल पर भारत को प्रतिष्ठापूर्ण स्थान दिलाया। उनके हरित क्रांति कार्यक्रम की सफलता ने देश को खाद्यान्न उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाया। बघेल ने कहा कि श्रीमती गांधी ने बैंकों के राष्ट्रीयकरण, राजाओं के प्रिवीपर्स की समाप्ति जैसे कठोर निर्णय लिए।

परमाणु शक्ति संपन्न राष्ट्र बनाया
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि बांग्लादेश का उदय, भारत का परमाणु शक्ति संपन्न राष्ट्र बनना उनकी प्रमुख उपलब्धियां थी। श्रीमती इंदिरा गांधी बचपन से देश के स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रहीं। उन्होंने बाल चरखा संघ की स्थापना की और असहयोग आंदोलन के दौरान बच्चों की वानर सेना बनायी। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रीमती इंदिरा गांधी को आयरन लेडी कहा जाता था। वे एक अनुशासित और कठोर शासक थीं, लेकिन उनके दिल में आदिवासियों, महिलाओं और गरीबों के प्रति कोमल भावनाएं थीं। इस अवसर पर वानी संगठन के अध्यक्ष श्री योगेन्द्र प्रताप सिंह, उपाध्यक्ष श्री बसंत यादव ने भी अपने विचार प्रकट किए। साथ ही कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, विधायक द्वय मोहन मरकाम और सत्यनारायण शर्मा, दैनिक देशबंधु के प्रधान संपादक ललित सुरजन समेत तमाम गणमान्य नागरिक सम्मेलन में पहुंचे।

संबंधित पोस्ट

रायपुर सराफा एसोसिएशन ने लॉकडाउन से निजात दिलाने लिखा मुख्यमंत्री को पत्र

आरएसएस का मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के अभिनन्दन के मायने

छत्तीसगढ़ के ठोस अपशिष्ट प्रसंस्करण संयंत्र का मुख्यमंत्री ने किया ई-लोकार्पण

सोनिया-राहुल की मौजूदगी में लांच हुई “राजीव गांधी किसान न्याय योजना”

वन विकास निगम ने सीएम भूपेश बघेल को सौपा सवा दो करोड़ का चेक

सफर में मिले दर्द को भूलकर सरकारों की तारीफ करते नहीं थक रहे मजदूर

भूपेश सरकार ने की खर्च में कटौती, 70 फीसदी ही खर्च होगा विभागीय बजट

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बैठक में शामिल हुए सीएम भूपेश

अजीत जोगी को कार्डियक अरेस्ट, बेटे अमित ने की प्रार्थना की अपील…

मंत्री और अफ़सरों से बोले सीएम भूपेश, आधे घंटे में हो रजिस्ट्री

भिलाई स्टील प्लांट ने दी सीएम सहायता कोष में एक करोड़ रूपए

Lockdown Impact : प्रधानमंत्री ने की राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग