कोरबाः बीमार हाथी की सेहत में तेजी से सुधार, विशेषज्ञ कर रहे इलाज

पेट में कीड़ों के संक्रमण से हुआ बीमार

कोरबा। कोरबा वनमंडल के ग्राम कठराडेरा में 14 जून को एक ग्रामीण के आंगन में आकर गिर पड़े हाथी के स्वास्थ्य में तेजी से सुधार हो रहा है। बैंगलुरू से आए वाइल्ड लाइफ विशेषज्ञ डॉक्टरों की देखरेख में हाथी का इलाज जारी है। डाक्टरों के मुताबिक संक्रमण के कारण हाथी बीमार पड़ा।

मिली जानकारी के अनुसार विशेषज्ञों की देखरेख में उक्त बीमार हाथी को विशेष आहार दिया जा रहा है। बैंगलुरू से आए वाइल्ड लाइफ विशेषज्ञ डॉ. अरूण ए. शाह के मुताबिक  हाथी के पेट में कीड़ों का संक्रमण है जिसके कारण वह कुछ खा-पी नहीं पा रहा था। हाथी को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैय्या कराकर उसका उपचार किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि बीमार हाथी जल्दी रिकवर हो इसके लिए उसे दवाईयों के साथ ही विशेष आहार भी दिया जा रहा है। हाथी के मलमूत्र, खून और गले की लार भी विशेष जांच के लिए रायपुर स्थित लैब भेजी गई है। जांच रिपोर्ट मिलते ही विशेष दवाईयां दी जाएगी।

डॉ. अरूण शाह ने बताया कि लगातार बीमार हाथी हर दो घंटे में तापमान और सांस की गति को नापा जा रहा है। उसे बेहतर सुविधा और आराम के लिए हर 6 घंटे में करवट दिलाई जा रही है। हाथी के हड्डियों को नुकसान से बचाने के लिए विशेष दवाईयां तथा स्प्रे भी किए जा रहे है। डॉक्टरों ने उम्मीद जताई है कि कुछ ही दिनों में यह नर हाथी पूरी तरह ठीक हो जाएगा।

डीएफओ एन गुरूनाथन ने बताया कि  कोरबा में उपलब्ध विशेषज्ञ पशु चिकित्सकों ने बीमार हाथी की जीवन रक्षा के जरूरी प्राथमिक उपचार किया था। बाद में हाथी को रेस्क्यू करने के लिए कोरबा तथा बिलासपुर से वाइल्ड लाइफ एक्सपर्ट की टीम भी कठराडेरा पहुंची ।

कलेक्टर पहुंचीं, ली जानकारी

बीमार हाथी के स्वास्थ्य की जानकारी लेने कोरबा कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल भी मौके पर पहुंची। यहां उन्होंने वनमंडलाधिकारी सहित चिकित्सकों से हाथी के किए जा रहे इलाज की पूरी जानकारी ली।

श्रीमती कौशल ने दवाओं के साथ-साथ हाथी के लिए भोजन आदि की भी पर्याप्त व्यवस्था रखने के निर्देश वन अमले सहित प्रशासनिक अधिकारियों को दिए है। उन्होने हाथी के ईलाज के लिए प्रशासन द्वारा सभी संभव सहायता उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया।

इस दौरान अतिरिक्त जिलादण्डाधिकारी संजय अग्रवाल, डीएफओ एन. गुरूनाथन, डिप्टी कलेक्टर देवेन्द्र प्रधान, बैंगलुरू से आए वाइल्ड लाइफ विशेषज्ञ डॉ. अरूण ए. शाह एवं डॉ. प्रयाग उपस्थित थे।

अलर्ट जारी

कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने गुरमा तथा आसपास के गांवों के निवासियों को हाथियों से सतर्क और सजग रहने की अपील की है। कलेक्टर ने कहा है कि  अपने घरों में बहुत ज्यादा धान का भंडारण न करें। महुआ व शराब आदि न रखें, कटहल, केला आदि सब्जी तथा फलों को भी घरों से दूर रखें। अमले को लगातार ग्रामीण इलाकों में पेट्रोलिंग करने और पहले से ही हाथियों से बचाव के सभी इंतजाम रखने के निर्देश दिए।