नए जिले गौरेला पेंड्रा मरवाही की सीमाओं पर बने “नाकाबंदी पॉइंट”

मध्यप्रदेश से सटी है नए जिले गौरेला पेंड्रा मरवाही की सीमाएं

बिलासपुर। नवगठित जिले गौरेला पेंड्रा मरवाही (गौपेम) में क्षेत्र की सुरक्षा एवं अंतरराज्यीय सीमा पर चौकसी बढ़ाने के लिए रेंज आईजी दीपांशु काबरा ने निर्देशित किया था। जिसके बाद अब नए जिले के लिए नाकाबंदी पॉइंट निर्धारित कर पक्के नाके बनाकर चेकिंग शुरू की गई है।

इस संबंध में जिले के पुलिस अधीक्षक सूरज सिंह परिहार ने सभी थाना प्रभारियों को नाकाबंदी पॉइंट निर्धारित कर स्थायी नाका अवरोध बनाकर चेकिंग हेतु निर्देश दिया था। जिस पर सभी थाना प्रभारियों द्वारा एसपी को नाके पॉइंट का सर्वे करके रिपोर्ट किया गया।

चिन्हित स्थानों पर पिछले 48 घंटे में क़रीब 6 नाके बनाकर उन पर रेफलेक्टर रेडीयम लगाकर इसे पूरी तरह तैयार कर लिया गया है। साथ ही रात्रि चेकिंग के आदेश पर अधिकारियों कर्मचारियों के साथ रात्रि में संदिग्ध वाहनों / व्यक्तियों की चेकिंग भी की गई।

मध्यप्रदेश से सटी है सीमाएं
गौरतलब है कि नए जिले की सीमा का काफ़ी हिस्सा मध्य प्रदेश राज्य से भी लगता है। जहाँ से अवैध कारोबार, गुंडा बदमाश की आवाजाही की सम्भावना बनी रहती है। ऐसे में ये नाके महत्वपूर्ण हो माने जा रहे है। नाकेबंदी की SOP चूँकि पुलिस अधीक्षक ने पहले ही जारी कर दी है, ऐसे में आने वाले समय में ज़िला पुलिस को नाकेबंदी के लिए तैयार रहने को माकड्रिल भी करायी जाएगी। वैसे यह प्रक्रिया किसी वारदात करके भागते लुटेरे या क़ातिल को पकड़ने में अहम भूमिका निभाती है।