छत्तीसगढ़ : कोरिया में अब मेहमान हाथियों ने नींद उड़ाई

खडगवां इलाके में एक सप्ताह से दहशत

बैकुंठपुर|सरगुजा संभाग के कोरिया जिले में दो दर्जन से ज्यादा मेहमान हाथियों ने लोगों की नींद उड़ा दी है। कोरबा जिले से खड़गवां इलाके में पहुंचे हाथियों ने घर-फसल को तबाह करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। हाथियों   वन अमले की नजर तो है लेकिन कोरिया सीमा से सुरक्षित बाहर निकालने की दिशा में अब तक के सभी कवायद नकाम हो चुके है। वन अमले की कोशिश है कि हाथी  आबादी वाले इलाके में न आने पायें।  यदि आबादी क्षेत्र में हाथियों का दल  आ जाता है तो भारी जान माल का नुकसान हो सकता है।
                                 इस संबंध में विधायक अम्बिका सिंहदेव ने बताया कि ग्रामीणों की तकलीफ देखी नहीं जाती है, मैं लगातार उनके संपर्क में हूँ। हाथियों को रास्ता देने के लिए सीमावर्ती जिलों से बात हुई है। यहां से एक बार चले जाएं फिर सबका मुआवजा प्रकरण बना कर राशि वितरित की जाएगी।
                                           कोरिया जिले में कोरबा से आये दो दर्जन से अधिक हाथियों के दल दल खडगवॉ वन परिक्षे़त्र में घूम रहा है जिसके कारण क्षेत्र के ग्रामीण अंचलों के लोगों में हाथियो को लेकर दशहत का माहौल बना हुआ है तथा लोग रात्रि में सुरक्षित रहने के लिए गॉव के सरकारी ईमारतों व निजी पक्के मकानों की छत पर रात्रि में ठण्ड के मौसम में खुले आसमान में रात बिताने को मजबूर है।
                                         इधर हाथियों का एक दल कोरिया जिले की सीमा से सूरजपुर जिले की सीमा में प्रवेश करने की जानकारी है लेकिन शेष हाथियों का दल कोरिया जिले के खडगवा वन परिक्षेत्र में ही घूम रहा है। वन विभाग का अमला हाथियों पर निगरानी बनाये हुए है और ग्रामीणों को उचित सलाह दी जा रही है। गत शनिवार की रात्रि में बैकुंठपुर विधायक अंबिका सिंहदेव खडगवॉ वन परिक्षेत्र के हाथी प्रभावित ग्राम मुगुम पहुंच कर आवश्यक जानकारी वन विभाग के अधिकारियों से लेकर ग्रामीणों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये।
                                      उल्लेखनीय है कि लगभग एक सप्ताह पूर्व कोरिया जिले के खडगवॉ वन परिक्षेत्र अंतर्गत कोटेया बीट अंतर्गत के जंगलों में कोरबा जिले से आये हाथियों का दल विचरण कर रहा है। जानकारी के अनुसार हाथियों का दल खडगवॉ वन परिक्षेत्र के ग्राम मुगुम के जंगलों में कई दिनों से घुम रहा है। इस क्षेत्र में हाथियों के दल द्वारा किसानों के खडी फसलों केा भी नुकसान पहुंचाया तथा कुछ ग्रामीणों के घर भी तोडे जिन्हें मुआवजे का इंतजार है।
                                                 वर्तमान में ग्राम मुगुम क्षेत्र के जंगलों में हाथियों का दल विचरण कर रहा है जिससे कि रात्रि के समय ग्राम मुगुम व आस पास के क्षेत्र के ग्रामो के लोग रात्रि. में सरकारी ईमारतों के छत में आकर सो रहे है तथा कुछ निजी घरों के लोग भी अपने घर के छत में रात गुजार रहे है। इसी से पता चलता है कि क्षेत्र में हाथियों को लेकर लोगों में कितना दशहत है। वही वन विभाग के बुलावे पर एक्सपर्ट की टीम अंबिकापुर से आयी थी जिन्हे भी हाथियों के डर से भागना पड़ा। स्थानीय वन अमला हाथियों पर लगतार निगरानी बनाये हुए है क्षेत्र के ग्रामीणों केा हाथियों से दूर रहने की सलाह दी जा रही है। शनिवार की रात्रि में बैकुण्ठपुर विधायक अंबिका सिंहदेव ग्राम मुगुम में पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया ग्रामीणों से बात की तथा वन अमले को सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखने के निर्देश दिये।
सूरजपुर में मवेशी पटक मारा
सूरजपुर जिले के वन मंडल  सुरजपुर, रेंज – प्रतापपुर, सर्किल- धरमपुर के बगड़ा बीट में हाथियों ने फसलों को नुकसान तो पहुंचाया ही एक हाथी ने धरमपुर से निकलकर बागड़ा गांव में एख मवेशी को पटक मारा। फिर सभी हाथी जंगल की ओर चले गए। वन विभाग ने कहा है कि बंसीपुर से बगडा कोटेया आने जाने वाले रोड पर सावधान रहने, रात में  जंगल एरिया वाले सावधान रें। हाथी रात भर में कहीं भी पहुंच सकते हैं, रात में जंगल रोड या घर से बाहर ना घूमें, सावधान रहें।