छत्तीसगढ़: बारदानें जमा न करने पर तीन पीडीएस दुकानों को किया निलंबित

धान खरीदी के लिए शेष बारदानों को खरीदी केन्द्रों में उपलब्ध कराने के दिए गए हैं निर्देश

रायपुर | छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा इस बार धान खरीदी में पुराने बारदानों का पूरा हिसाब लिया जा रहा है। कुछ ने तो अपनी तरफ से पैसे लगाकर अपना रास्ता साफ़ कर लिया पर कुछ अब भी इन बारदानों का हिसाब देने में असमर्थ रहे। जिसे लेकर प्रशासन सख्ती से कार्यवाई करती नजर आ रही है।

राज्य शासन द्वारा खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में धान खरीदी के लिए पीडीएस सिस्टम में शेष बारदानों को एकत्र कर खरीदी केन्द्रों में उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं । जिसे लेकर बारदानों को लेम्पस समितियों में जमा नहीं करने वाले कोण्डागांव जिले के उचित मूल्य की तीन दुकानों को निलम्बित कर दिया गया है।

जिले के ग्राम डोंगरीगुड़ा पीडीएस दुकान को महिला समूह द्वारा एवं ग्राम सुकुरपाल एवं जोबा के पीडीएस दुकान को ग्राम पंचायत द्वारा संचालित किया जा रहा था। बारदाना जमा नहीं करने के कारण उक्त दुकानों को आगामी आदेश तक के लिये निलंबित किया गया है। खाद्यान्न वितरण के लिये डोंगरीगुड़ा के लिये लेम्पस कोण्डागांव एवं सुकुरपाल एवं जोबा के दुकानों के लिये लेम्पस दहिकोंगा से खाद्यान्न वितरण कराये जाने का आदेश जारी किये गये हैं।

संबंधित पोस्ट

सीबीआई ने छत्तीसगढ़ के सेक्स सीडी मामले को दिल्ली शिफ्ट की मांग की  

सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी : छत्तीसगढ़ सुपर ओवर में जीता, उत्तराखंड को हराया

ओडिशा से निकली एंबुलेंस छत्तीसगढ़ में खड़ी टैंकर से टकराई, चालक की मौत

छत्तीसगढ़ में पहली बार वर्चुअल मैराथन का किया गया आयोजन

छत्तीसगढ़ में 1 दिसम्बर से शुरू होगा समर्थन मूल्य पर धान खरीदी

भूपेश कैबिनेट: सभी प्रस्तावों पर छत्तीसगढ़ी में हुई चर्चा

1 दिसंबर से होगी धान खरीदी, 21 लाख से अधिक किसानों का हुआ पंजीयन

छत्तीसगढ़: उद्यानिकी से प्रदेशवासियों को मिला रोजगार और आर्थिक स्वावलंबन का बढ़ावा

CGPSC की ओर से 143 पदों पर होगी भर्ती,कर सकेंगे ऑनलाइन आवेदन

छत्तीसगढ़: ’’यथोचित व्यवहार’’ विषय पर दिया जायेगा ऑनलाईन प्रशिक्षण, कोविड-19 की रोकथाम के लिए उठाया गया कदम

छत्तीसगढ़ के चंदखुरी में है दुनिया का इकलौता कौशल्या माता मंदिर

जान की बाजी लगा नक्सलियों से लोहा लेने वाले वाले बस्तर के 6 जवानों को शौर्य पदक