मुंगेली में सैप्टिक टैंक की सफाई करते 3 भाइयों समेत सफाई कर्मी की मौत

प्रशासन शव निकालने में जुटा, गांव मातम में डूबा

बिलासपुर। बिलासपुर संभाग के मुंगेली जिले के सरगांव नगर पंचायत के मर्राकोना गांव में सैफ्टिक टैंक सफाई के दौरान जहरीली गैस रिसाव से 4 की जान चली गई। मृतकों में तीन एक ही घर के हैं जबकि एक पंचायत कर्मी है।समाचार लिखे जाने तक शवों को निकालने के लिए जेसीबी आदि की मदद ली जा रही थी।

मिली जानकारी के अनुसार आज शाम सरगांव के मर्राकोना गांव में लखन वर्मा और उनके बड़े भाई मंशाराम वर्मा को अपने घर के सैप्टिक टैंक की सफाई करानी थी।

सरगांव नगर पंचायत के दो कर्मचारी सफाई मशीन लेकर वहां पहुंचे थे।  काफी मलबा निकालने के बाद जमा मलबा  पानी डालकर निकालने की बात आई।

इसी दौरान लखनवर्मा का बेटा अखिलेश्वर टंकी के नीचे पानी डालने के लिए उतरा। और वह जहरीली गैस की चपेट में आ गया। उसे बचाने के लिए मंशाराम का बेटा रामखिलावन भी नीचे उतरा। वह भी गैस की चपेट में आकर टंकी में गिर गया।

इधर रामखिलावन का भाई गौरीशंकर इन्हें देखने के लिए टंकी के करीब पहुंचा तो वह भी गैस की चपेट में आकर नीचे गिर गया।

इन तीनों के उतरने से पहले ही नगर पंचायत का सफाई कर्मचारी सुभाष  डागौर  भी टंकी के नीचे उतरा था। वह भी गैस के असर से टंकी के नीचे गिर गया। इस तरह से एक के बाद एक चार लोग सैप्टिक टंकी की चपेट में आ गये।

घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही प्रशासन के अला अफसर घटनास्थल पहुंचे। चारों मृतकों को निकालने के लिए फायर ब्रिगेड और जेसीबी बुलाई गई है। सावधानी के साथ शवों को निकालने का प्रयास किया जा रहा है।

इधर पूरा गांव शोक में डूबा हुआ है। यह इलाका नेता प्रतिपक्ष धमरमलाल कौशिक का है।