सीएम भूपेश ने ली रायपुर के पार्षदों की बैठक,महापौर के नाम पर हुई चर्चा

निर्दलीय पार्षद भी सीएम भूपेश बघेल से मिले

रायपुर | नगर निगम चुनाव के बाद कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दल नगर निगमों में महापौर और नगर पालिका में अध्यक्ष को काबिज करने के लिए मंथन करने में जुटी हुई है। कांग्रेस का मानना है कि प्रदेश के 10 नगर निगमों में कांग्रेस के ही महापौर बैठेंगे, तो वहीं भाजपा अपने महापौर को बिठाने में कवायद में कहीं भी पीछे नहीं है। भाजपा अपने पार्षदों से लगातार वार्ता कर रही है। साथ ही रणनीति भी बनाई जा रही है कि खासकर राजधानी रायपुर में भाजपा का ही महापौर बैठे। वहीं कांग्रेस का दावा है कि राजधानी रायपुर में तीसरी बार कांग्रेस का ही महापौर बैठेगा।

CM भूपेश ने महापौर के नाम पर मंथन
आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मुख्यमंत्री निवास में सभी पार्षदों से 1 टू 1 चर्चा की है। इसमें महापौर की दौड़ में शामिल पार्षद भी अपने अन्य पार्षदों को साधते हुए नजर आए। मुख्यमंत्री निवास के सामने पार्षदों और उनके समर्थकों का हुजूम घंटे भर तक खड़े देखा गया। सीएम हाउस में चली बैठक के दौरान पार्षद आपस में ही कई कयास लगाते भी दिखाई दिए। रायपुर नगर निगम में महापौर की दौड़ में वर्तमान महापौर प्रमोद दुबे, ज्ञानेश शर्मा और एजाज ढेबर के साथ-साथ अजीत कुकरेजा, श्रीकुमार मेमन भी दौड़ में शामिल दिखाई दिए।
सीएम हाउस में लगभग 4 घंटे तक मैराथन बैठक चली, जिसमें मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दावेदारों के नाम पर चर्चा की। इसमें माना जा रहा है कि पार्टी संगठन ने मेयर के लिए तीन मापदंड तय किए हैं। पहला मापदंड यह है कि मेयर के दावेदार को रायपुर के तीनों कांग्रेस विधायकों का समर्थन जरूरी है। दूसरे मापदंड में ज्यादा से ज्यादा कांग्रेस पार्षद संबंधित दावेदार के पक्ष में हो और तीसरा मापदंड दावेदार राजनीतिक और राजधानी के नगर निगम को सुचारू रूप से चला पाए और साथ ही वह परिपक्व भी हो। इन तीनों मापदंडों के आधार पर ही रायपुर नगर निगम के महापौर का चुनाव किया जाएगा।

CM भूपेश से मिले निर्दलीय पार्षद
इधर छह निर्दलीय प्रत्याशी आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मिलने पहुंचे। जिसके बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि एजाज ढेबर अपने पक्ष में इन निर्दलीयों को करने के बाद सबसे अहम दौड में महापौर के लिए होगा। वहीं मुख्यमंत्री ने सभी छह निर्दलीय पार्षदों से मुलाकात की। माना जा रहा है कि यह सभी निर्दलीय पार्षद कांग्रेस में जल्द ही शामिल भी हो सकते हैं।

कोई शक्ति प्रदर्शन नहीं-कुलदीप जुनेजा
रायपुर उत्तर के विधायक कुलदीप जुनेजा ने कहा कि मुख्यमंत्री निवास में शक्ति प्रदर्शन की बात झूठी है और अब तक किसी नाम पर संगठन ने मुहर नहीं लगाया है। 6 जनवरी को ही महापौर के नाम की घोशण होगी। उन्होंने यह भी कहा कि किसी भी विधायक ने मुख्यमंत्री को अपने चहेते पार्षदों का नाम महापौर के लिए सामने नहीं किया है। जुनेजा ने कहा की 6 जनवरी को पार्षदों के शपथ ग्रहण के बाद ही रायपुर नगर निगम के महापौर के नाम की घोषणा वहीँ की जाएगी। आज मंथन के बाद सभी पार्षदों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर सारा दारोमदार छोड़ दिया है। सीएम भूपेश जिस नाम को फाइनल करेंगे उसे सभी पार्षदों का समर्थन होगा।

पिकनिक पर गए भाजपा पार्षद
वही इन सब के बीच प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस पर पार्षदों के खरीद-फरोख्त का भी आरोप लगा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने साफ तौर पर कहा है कि नगरीय निकाय में पार्षदों का चुनाव प्रत्यक्ष प्रणाली से होने के बाद अब महापौर और अध्यक्षों के चुनाव में कांगे्रस खरीद-फरोख्त में पूरी तरह से जोड़-तोड़ लगाने में जुटी हुई है। वही रायपुर से भाजपा के निर्वाचित हुए 29 पार्षदों को किसी दूर स्थान पर पिकनिक के लिए भेज दिया गया है, ताकि भाजपा के पार्षदों पर कांग्रेस डोरा ना डाल सके।