कोरवा आदिवासी हत्या : हत्या से पहले किशोरी से सामूहिक बलात्कार?

मृतक झकरीराम की पत्नी ने आरोप लगाया है कि बेटी की हत्या से पहले उसके साथ सामूहिक बलात्कार

कोरबा| बिलासपुर संभाग के कोरबा जिले के लेमरू थाना इलाके में कोरवा आदिवासी के एक घर के 3 लोगों की हत्या मामले में नया  मोड़ आ गया है| मृतक झकरीराम की पत्नी ने आरोप लगाया है कि बेटी की हत्या से पहले उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया  है । मुख्य आरोपी संतराम यादव उसकी बेटी को पत्नी बनाना चाहता था जिसे उन्हें मंजूर नहीं था|

पुलिस ने महिला का बयान को दर्ज कर लिया है। शवों का पोस्टमार्टम किया जा रहा था।

उधर पुलिस ने कोरवा आदिवासी हत्या के  मुख्य आरोपी संतराम यादव सहित 4 को गिरफ्तार कर लिया है। आरोप है की संतराम ने अपने साथी उमाशंकर यादव, अब्दुल जब्बार, अनिल सारथी, परदेशी दास व अनंत दास के साथ मिलकर हत्या की है।

पुलिस ने अभी इस मामले में प्राथमिकी दर्ज नहीं की है। हालांकि सभी आरोपी पुलिस की हिरासत में हैं। पुलिस पोस्टमार्टम और परिजनों के बयान का इंतजार कर रही थी।

वैसे शुरुआती पंचनामा में बलात्कार की आशंका से इनकार नहीं किया गया है। कोरवा आदिवासी किशोरी के शरीर पर संघर्ष के निशान मिले हैं। वहीं उसके नाजुक अंग से भी रक्त बह रहा था। इसे देखते हुए पुलिस ने शार्ट पीएम रिपोर्ट मांगी है।

बता दें लेमरू क्षेत्र के गढ़-उपरोड़ा में 29 जनवरी को कोरवा आदिवासी पिता-पुत्री और 4 साल की नातिन की हत्या कर दी गई थी। शव मंगलवार को जंगल से बरामद हुए थे। उस समय किशोरी जिंदा थी और उसे पत्थर रख दबा दिया गया था। अस्पताल लाते समय रास्ते में मौत हो गई। बाकी दोनों की सिर कुचलकर हत्या की गई है। मुख्य आरोपी संतराम यादव सहित उमाशंकर यादव, अब्दुल जब्बार, अनिल सारथी, परदेशी दास व अनंत दास को हिरासत में है। जबकि परदेशी दास और अनंत दास फरार हैं।

इधर ग्रामीणों की माने तो यह घटना 30 जनवरी की है और किसी तरह भागकर झकरीराम की पत्नी ने अपनी जान बचाई। मृतक कीबेटी के साथ अनिष्ट की भी आशंका ग्रामीणों ने जताई थी ।