ओडिशा के पूर्व MLA अनूप साय ने उगले राज

कबूला, मां-बेटी को मारा फिर लाश को रौंदवा दिया

रायगढ़। छत्तीसगढ़ पुलिस की मैराथन पूछताछ के बाद आखिरकार ओडिशा के पूर्व MLA अनूप साय टूट गया। राज उगलते कहा कि दोनों मां-बेटी को अपनी गाड़ी से कुचल मारा था।उसके 2111 से संबंध थे। मृतका कल्पना दास पेशे से वकील थी और विधायक अनूप साय के खरीदे गए भुवनेश्वर के प्लैट में रहती थी। दोनों में 2011 से संबंध थे।  वह ब्लैकमेल करने लगी थी लिहाजा उसके साथ उसकी बेटी को भी खत्म कर ताकि वह भविष्य में कांटा न बन जाए। बता दें कि देश टीवी ने कल सबसे पहले साय की गिरफ्तारी की खबर दी थी।

पुलिस ने आज दोपहर आरोपी अनूप साय को मीडिया के सामने पेश किया। मीडिया को जानकारी देते एसपी  ने बताया कि मृतकों की शिनाख्त में ही साल भर लग गए थे। पुलिस ने अपनी आधा दर्जन से ज्यादा टीमें ओडिशा, बंगाल, झारखंड, उप्र और बेंगलोर भेजे थे।

इसी बीच मृतका की पहचान ओडिशा ब्रजराजनगर निवासी के रुप में हुई। महिला के पूर्व पति सुनील श्रीवास्तव के आधार पर तेजी आई। पुलिस ने मृतका के काल डिटेल के आधार पर जब पड़ताल की तो अनूप साय का संबंध सामने आया। राजनीतिक रखूख वाले अनूप साय के कारण पुलिस ने बहुत सावधानी बरती और सारे सबूत जुटाने शुरू किए।

हिरासत में लिए जाने के बाद  उससे काफी पूछताछ की गई लेकिन वह इंकार करता रहा। लेकिन गवाहों के बयान, मोबाइल डिटेल आदि सबूतों का वह जवाब नहीं दे पाया और टूटकर  आखिरकार उसने कबूल किया कि इस हत्या में प्रमुख रुप से उसका ही हाथ था।

आरोपी अनूप साय ने पुलिस को बताया कि सन 2004-05 में कल्पाना दास को उसका पति छोड़ दिया था। उसे लेकर उसका पिता मेरे पास आया था तब उसके साथ उसकी बेटी भी थी। यह मुलाकात दोस्ती में बदल गई और मोबाइल पर बातें करने लगा और उससे मेरे संबंध बन गए।

सन 2111 में भुवनेश्वर में एक मकान बनवाया और यहां दोनों मां-बेटी रहने लगे। यहां मैंने कल्पना को पत्नी और उसकी बेटी बबली को अपनी बेटी के रुप में रखा था।  बबली का एक अच्छे स्कूल में दाखिला करा दिया और भुवनेश्वर आते-जाते वहीं रुकता था।

इन दोनों का खर्च मैं उठा रहा था। उनके घूमने-फिरने पर भी काफी पैसे खर्च किए। इसी दौरान कल्पना मुझसे शादी करने और यह मकान अपने नाम कराने दबाव डालने लगी। वह बार-बार ब्लैकमेल करने लगी। चूंकि पहले से ही मेरी पत्नी और बच्चे हैं लिहाजा में इसे स्वीकार नहीं कर पाया।

तंग आकर मैंने इन दोनों को अपने रास्ते से हटाने की सोची। फिर 5 मई 2006 को इन दोनों को बस से झारसुगुड़ा के लिए रवाना कर दिया। पीछे-पीछे मैं अपनी गाड़ी से आ रहा थ। इन दोनों को यहां एक होटल में रुकवा दिया और घर चला गया। उसी रात उससे शादी करने का झांसा देकर उसे रायगढ़ ले आया। होटल न मिलने की बात कहकर हमीरपुर में रुकने का झांसा दिया और हमीरपुर मार्ग पर दोनों को गाड़ी से उतरवाकर दोनों के सिर पर प्राणघातक हमला कर मार डाला।

गाड़ी के चालक बर्मन टोप्पो ने मेरे इशारे पर लाश को कई बार रौद दिया जिससे वह पहचान में न आए। फिर वहां से अपने घर लौट आया।

एसपी ने बताया कि आरोपी का भी नार्को टेस्ट किया जाएगा। मृतका से संबंध संबंधी तथ्य जुटाने डीएनएन टेस्ट भी कराया जाएगा।

संबंधित पोस्ट

कोरिया के इस शिवलिंग को हाथी भी टस से मस न कर सका

कोरियाः धान खरीदी में लापरवाही, 3 पटवारी निलंबित

रायगढ़ : ओडिशा के पूर्व एमएलए अनूप साय पर सबूत नष्ट करने की भी धारा जोड़ी जाएगी

बस्तरः बेकाबू ट्रेक्टर पलटने से 4 मौतें

पोखलेन को जलाने की नाकाम कोशिश, नक्सली घटना की आशंका

‘छग के जंगलों का अनुभव यूपी पुलिस खुफिया तंत्र को मजबूती देगा’

रायगढ़ की महिला अफसर के सुसाइड नोट ने उड़ा दी प्रशासन की नींद

खैरागढ़ राजघराने के विक्रांत को मिला जिपं का दूसरा शीर्ष पद

बस्तरः जहां प्रेम ने इन युवकों को देवता बना दिया

कोरिया : क्रॉस वोटिंग, निर्दलीय वेदांती तिवारी उपाध्यक्ष

दुर्ग जिपं-जपं पर कांग्रेस काबिज

बस्तरः आंख से काजल चुरा ले गए भाजपाई, ताकते रह गए कांग्रेसी