सरगुजा: करोड़ों का गबन, चिटफंड कंपनी का एक और आरोपी गिरफ्तार

मामले में 4 आरोपियों की पहले ही हो चुकी है गिरफ्तारी

अम्बिकापुर । सरगुजा संभाग में लोगों को निवेश का चार गुना पैसा देने का झांसा देकर करोड़ो की ठगी करने वाले विश-वेलेट चिटफंड कम्पनी के एक और फरार आरोपी को अंबिकापुर कोतवाली पुलिस ने बिहार औरंगाबाद से अभिषेक पांडेय नामक युवक को पकड़ लिया है।इस मामले में पुलिस ने चार लोगो को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।सरगुजा संभाग से कंपनी में करीब 12 हजार लोगों का 5 करोड़ रुपए डूबा है।

कोतवाली टीआई भारद्वाज सिंह द्वारा बताया गया कि इस मामले में दिगर प्रांत के दो तीन और आरोपियों की तलाश पुलिस को है,उनकी गिरफ्तारी का प्रयास चल रहा है।अभिषेक पांडेय पर पेटीएम लिंक के माध्यम से करोड़ों रुपये विश बैलेट कम्पनी के खाते में भेजने का आरोप है।

बताया जा रहा है कि आरोपी अभिषेक पांडे ने पुलिस को पूछताछ में उसके पेटीएम लिंक के माध्यम से 7 करोड़ 62 लाख रुपये विश वेलेट कम्पनी के खाते में भेजे जाने की बात कुबूली है।बताया जा रहा कि कोरोना संक्रमण के बीच गुजरात बड़ोदरा जिले के एक युवक ने फर्जी चिटफंड कंपनी बनाई।

मात्र एक माह में जमा राशि चार गुना करने का झांसा देकर विश वायलेट एप के माध्यम से लोगों से करोड़ों रुपए ऑनलाइन जमा करा लिए। विश वालेट एंड इंड्रस्ट्रीज के संचालक आरोपी अशोक आचार्य उर्फ प्रियदर्शी ने शुरू में कुछ लोगों को झांसा देने जमा राशि के बदले रिटर्न भी किया।

कंपनी के फर्जी होने के बारे में तब पता चला, जब जुलाई में 14 हजार से अधिक निवेशकों का करीब 6 करोड़ 2 लाख  डूब गया। इसमें सरगुजा जिले के भी हजारों ने पुलिस को शिकायत की। इतनी बड़ी ठगी का मामला सामने आने पर आईजी रतनलाल डांगी के निर्देश पर एसपी टीआर कोशिमा के मार्गदर्शन में पुलिस ने जांच शुरू की। जांच में पता चला सरगुजा संभाग से कंपनी में करीब 12 हजार लोगों का 5 करोड़ रुपए डूबा है।