सुकमा आईईडी ब्लास्ट में घायल सीआरपीएफ डिप्टी कमांडेंट विकास कुमार शहीद

रायपुर के एक अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था और इसी दौरान उन्होंने अपनी अंतिम सांस लीं

सुकमा | छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग के  सुकमा जिले में रविवार को हुए एक आईईडी ब्लास्ट में घायल सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) के एक डिप्टी कमांडेंट विकास कुमार शहीद हो गए।
विकास कुमार सीआरपीएफ के 208वीं बटालियन में तैनात थे। रायपुर के एक अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था और इसी दौरान उन्होंने अपनी अंतिम सांस लीं। शहीद विकास कुमार मूल रूप से उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के रहने वाले हैं।

सुकमा जिले के किस्टाराम में सीआरपीएफ कोबरा बटालियन 208 के जवान क्षेत्र की सर्चिंग पर निकले थे। तभी जवानों की नजर उनको नुकसान पहुंचाने की नीयत से नक्सलियों द्वारा लगाए आईईडी बम पर पड़ गई। जिसके बाद जवानों ने सावधानीपूर्वक बम को बाहर निकालकर उसे निष्क्रिय करना शुरू किया।

तभी अचानक आईईडी बम ब्लास्ट हो गया। जिसकी जद में सीआरपीएफ कोबरा बटालियन 208 के एक डीसी अधिकारी आ गए थे ।

बस्तर: आईईडी ब्लास्ट में सीआरपीएफ कोबरा बटालियन का अधिकारी घायलसीआरपीएफ ने जारी बयान में कहा है कि, विकास कुमार एक विशेष अभियान में सीआरपीएफ और छत्तीसगढ़ पुलिस की एक संयुक्त टीम का हिस्सा थे। रविवार को सुबह करीब 11 बजे किस्टाराम इलाके में कासाराम नाला के पास आईईडी ब्लास्ट में वह घायल हो गए।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल ने कहा, “विकास को उपचार के लिए हेलीकॉप्टर से रायपुर लाया गया था। ऑपरेशन के बाद आधी रात को इस वीर जवान ने शहादत प्राप्त की।”

शहीद विकास कुमार मूल रूप से उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के रहने वाले हैं। वह सीआरपीएफ की कोबरा (कमांडो बटालियन फॉर रेसोल्यूट एक्शन) बटालियन में तैनात थे। यह सीआरपीएफ की एक स्पेशल ऑपरेशन यूनिट है, जो गोरिल्ला रणनीति और जंगल युद्ध में पारंगत होते हैं।

उनके पार्थिव शरीर को इंडिगो की 6ई 2292 विमान से रायपुर से दिल्ली लाया जा रहा है। यहां से फिर इन्हें इनके होमटाऊन ले जाया जाएगा।

सीआरपीएफ ने ट्वीटर पर लिखा  है  हम शहीद डिप्टी कमांडेंट विकास सिंघल के वीरता और दृढ़ निष्ठा को सलाम करते हैं, जिन्होंने सुकमा, छत्तीसगढ़ में नक्सलियों से लड़ते हुए सर्वोच्च बलिदान दिया। हम अपने बहादुर के परिवार के साथ खड़े हैं।

यूपी के सीएम योगी आदित्य नाथ ने ट्विट किया है –