डबल लेग एंप्युटी माउंटेनियर चित्रसेन बने मैराथन दौड़ चीफ़ गेस्ट…

माउंटेनियर चित्रसेन साहू को देखे खिलाड़ी-दर्शक लेने लगे सेल्फी

राजनांदगांव। राजनांदगांव में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता के लिए रविवार को एक मैराथन दौड़ का आयोजन किया गया। इस आयोजन में जो मुख्य अतिथि के तौर पर वहां पहुंचे वह बेहद चौकाने वाली शख़्शियत थी। चौकानेवाले इसलिए क्योंकि उनके दोनों पैर नहीं है, लेकिन फिर भी उन्होंने हौसलों से किलीमंजारो फतेह कर एक नेशनल रिकॉर्ड अपने नाम किया है। यह माउंटेनियर कोई और नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ के बालोद में रहने वाले चित्रसेन साहू है।

मैराथन में शामिल होने के बाद चित्रसेन साहू ने मीडिया से चर्चा के दौरान बताया कि स्वर्गीय गोविंदराम निर्मलकर ऑडिटोरियम के पास की दीवार पर खिलाड़ियों की पेंटिंग बनाई गई है। जिसमें साइना नेहवाल, पीवी सिंधु, सचिन तेंदुलकर जैसे तमाम नामचीन खिलाड़ी है। इसमें प्रदेश के भी कई खिलाड़ियों की तस्वीरें उकेरी गई है, जिसमें से एक मेरी भी है। मेरी इस तस्वीर से लोग प्रेरित हो सके और खुद को खेल के लिए समर्पित और जागरूक कर सकें बस यही आशा और उम्मीद है।

गौरतलब है कि चित्रसेन डबल लेग एंप्यूटी है, वह मिशन इन्क्लूजन के माध्यम से शारीरिक रूप से अक्षम लोगों को सामाजिक समानता दिलाने के लिए लगातार काम कर रहे है। इसके अलावा उन्होंने साउथ अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलीमंजारो को फतह करने का अपना पहला रिकॉर्ड भी बनाया है, वह एकमात्र ऐसे डबल लेग एंप्यूटी है जिन्होंने किलीमंजारो पर फतह हासिल की है।