पिटाई के बाद नक्सलियों ने फूंके वन रक्षकों के सरकारी आवास

गढ़चिरौली में नक्सलियों के बेदम पिटाई के शिकार हुए दो वनकर्मी

प्रदीप मेश्राम, राजनांदगांव । छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले की सीमा से सटे महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में नक्सलियों ने मंगलवार देर शाम को फारेस्ट विभाग के एक कार्यालय में धावा बोलते हुए जंगल की सुरक्षा में तैनात दो वनकर्मियों पर जमकर लाठियां भांजी और पिटाई के बाद आग बबूला होकर सरकारी आवास को आग के हवाले कर दिया। नक्सलियों ने निर्ममतापूर्वक लाठियां बरसाते हुए दोनों वनकर्मियों को बंधक बनाकर रखा।
मिली जानकारी के मुताबिक भामरागढ़ डिवीजन के एटापल्ली के गट्टा वन कार्यालय में मंगलवार को शाम होते ही कुछ सशस्त्र नक्सली आ धमके। वहां तैनात दो फारेस्ट गार्ड को बुलाकर सवाल-जवाब किये।
इसी बीच नक्सलियों ने हिंसक होकर दोनों की जमकर धुनाई शुरू कर दी। इस दौरान उनसे तेन्दूपत्ता तोड़ाई में नियम-शर्तों को थोपने का आरोप लगाते नक्सलियों ने जमकर डंडे बरसाये।
मिली जानकारी के मुताबिक डंडे से पिटाई के कारण दोनों वनकर्मियों के पीठ में चोंट के निशान बन गए। किसी तरह दोनों नक्सलियों के चंगुल से बाहर निकले, लेकिन नक्सलियों ने अपना गुस्सा उनके आवास में निकाला।
सरकारी आवास को आग लगाते हुए नक्सली बाद में वहां से चले गए। घटना की पुष्टि करते गढ़चिरौली पुलिस पीआरओ प्रशांत दिवाते ने कहा कि मारपीट करने के बाद नक्सलियों ने सरकारी मकान को आग लगाया है। सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने तथा कर्मियों के साथ हिंसक वारदात करने के मामले के तहत पुलिस जांच कर रही है।