राजनांदगांव : गुजारा भत्ता के लिए फिर चालकों का प्रदर्शन

कहा, हमारी सुध नहीं ले रही सरकार

प्रदीप मेश्राम, राजनांदगांव। लॉकडाउन में बेकाम बैठे बस चालकों ने फिर आज गुजारा भत्ता की मांग को लेकर स्थानीय पुराने बस स्टैंड में प्रदर्शन किया। बार-बार बस चालकों का आरोप है कि केंद्र और राज्य सरकार का ध्यान प्रवासी मजदूरों पर ही केन्द्रित है। व्यवसाय से जुड़े मजदूरों की सुध लेने की कोशिश नहीं की जा रही है। लिहाजा ऐसे मजदूर आर्थिक संकट के भंवर में फंसे हुए हैं।

स्थानीय पुराने बस स्टैंड में प्रदर्शन करते यूनियन के अध्यक्ष मो. आरिफ का कहना है कि प्रवासी मजदूरों को पहुंचाने ड्राईवर अपनी जान जोखिम में डालकर जा रहे हैं और दो ड्राईवर इसी बीच खतम हो गए। प्रशासन ने उनके लिए क्या किया, उनकी आर्थिक खराब हो गई है। ऐसे में ड्राईवर भाई लोग कहां जाएंगे। क्या खाएंगे-क्या पीयेंगे। चावल देने से हमारा काम नहीं चलता और हमारे घर में और परिस्थिति है।

उन्होंने कहा कि बेरोजगारी भत्ता मिलना चाहिए। इस दौरान  चालक-परिचालक और हेल्परों ने पुराने बस स्टैंड नारेबाजी की। इधर ड्राईवरों में सरकार और प्रशासन के खिलाफ बेहद ही आक्रोश है।

संबंधित पोस्ट

दुर्ग :विवाद के बाद बेटे ने लगाई फांसी, बाप ने ट्रेन के आगे दे दी जान

राजनांदगांव: बदमाशों ने आधी रात हिस्ट्रीशीटर को चाकू से गोद मार डाला

राजनांदगांव:छह माह से कोर्ट में ताले, वकीलों ने मांगी सरकार से क्षतिपूर्ति

राजनांदगांव:बलात्कार-हत्या के आरोपी को फांसी की मांग, रैली-प्रदर्शन

राजनांदगांव: आजादी के बाद पहली बार देखी मलैदा ने चमचमाती सड़क

राजनांदगांवःग्रामीण महिला कांग्रेस की कार्यकारिणी में प्रभारी मंत्री अकबर के करीबियों का वर्चस्व

राजनांदगांवः झंडा जलाने के विवाद से तनाव के बीच बंद रहा मानपुर

राजनांदगांवः विश्व आदिवासी दिवस पर किसान-मजदूरों ने केंद्र  के खिलाफ किया प्रदर्शन 

राजनांदगांवः राज्य और केंद्र की नीतियों पर बरसे किसान

राजनांदगांवः तेन्दूपत्ता से भरी ट्रक में जा घुसी तेज रफ्तार कार

राजनांदगांवः मनरेगा कर्मियों से मारपीट का आरोप, आधा दर्जन महिलाएं थाना तलब

गोदाम में रखा 35 लाख का बारदाना खाक