राजनांदगांवः मनरेगा कर्मियों से मारपीट का आरोप, आधा दर्जन महिलाएं थाना तलब

मजदूरी  में कटौती को लेकर बवाल

प्रदीप मेश्राम, राजनांदगांव। रोजगार गारंटी योजना के तहत तालाब खुदाई कार्य में लगे मजदूरों की पारिश्रमिक में कटौती किए जाने के बाद भड़के मजदूरों द्वारा कथित रूप से मारपीट किए जाने का मामला पुलिस तक पहुंच गया है।

 मोखला पंचायत के आधा दर्जन मनरेगा महिला मजदूरों पर तकनीकी सहायक संजय हेगड़े और आरती मंडावी ने सुरगी पुलिस चौकी में लिखित में शिकायत दर्ज कराई है। वहीं पंचायत के पदाधिकारियों और ग्रामीणों ने आरोप को झूठा करार देते हुए पूरे मामले की जांच करने की मांग की है।

मामला यह है कि महात्मा गांधी रोजगार गांरटी योजना में मोखला पंचायत के मजदूरों के पारिश्रमिक में कटौती किए जाने से नाराज मजदूरों और मनरेगा कर्मियों के बीच शनिवार को बहस हुई।

कम मेहनताना मिलने से नाराज मजदूरों का तकनीकी सहायक और रोजगार सहायक के साथ विवाद हुआ।

 इसी बीच कुछ महिला मजदूरों ने रोजगार सहायक आरती मंडावी के साथ धक्का-मुक्की हुई। महिला मजदूरों ने मारपीट करने के आरोप को झूठा बताते यह स्वीकार किया है कि रोजगार सहायक आरती मंडावी के साथ धक्का-मुक्की हुई है।

तकनीकी सहायक संजय हेडाऊ और रोजगार सहायक आरती मंडावी ने सुरगी पुलिस चौकी में करीब आधा दर्जन महिला मजदूरों के विरूद्ध मारपीट करने की शिकायत दर्ज की है।

इधर रविवार को मामले की जांच करते आरोपी महिलाओं को पुलिस ने कथन के लिए पुलिस चौकी तलब किया। इस बात से नाराज मनरेगा मजदूर महिलाओं ने पुलिस चौकी में धावा बोल दिया।

इस बात की जानकारी मिलने के बाद सीएसपी एमएस चंद्रा चौकी पहुंचकर ग्रामीण महिलाओं से चर्चा की। सीएसपी ने समझाईश देते साफ कहा कि हिंसा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि महिलाओं को इस तरह का व्यवहार करना शोभा नही देता।

मारपीट के आरोप से इंकार करते मनरेगा मजदूर किरण साहू ने बताया कि रोजगार सहायिका के साथ मामूली धक्कामुक्की हुई है। इसी तरह ज्योति साहू ने भी मारपीट के आरोपो को बेबुनियाद बताया है।

बताया जाता है कि मजदूर इस बात से नाराज हैं कि बिना ठोस कारण के आधा दर्जन मजूदरों के मेहनताना में 3 सौ रुपए की कटौती कर दी गई है। मजदूरों का कहना है कि पहले भी ऐसा किया गया है। जॉब कार्ड में 1140 रुपए भरे गए थे। भुगतान के वक्त कटौती किए जाने की खबर के बाद मजदूर भड़क उठे।

बताया जाता है कि कटौती किए जाने की वजह से मजदूरों ने मनरेगाकर्मियों के साथ विवाद हुआ। सुरगी पुलिस चौकी प्रभारी शक्ति सिंह ने बताया कि महिला मजदूरों का कथन लिया जा रहा है। उसके बाद आवदेक पक्ष के बयान के आधार पर आगे कार्रवाई होगी।

संबंधित पोस्ट

दुर्ग :विवाद के बाद बेटे ने लगाई फांसी, बाप ने ट्रेन के आगे दे दी जान

राजनांदगांव: बदमाशों ने आधी रात हिस्ट्रीशीटर को चाकू से गोद मार डाला

राजनांदगांव:छह माह से कोर्ट में ताले, वकीलों ने मांगी सरकार से क्षतिपूर्ति

राजनांदगांव:बलात्कार-हत्या के आरोपी को फांसी की मांग, रैली-प्रदर्शन

राजनांदगांव: आजादी के बाद पहली बार देखी मलैदा ने चमचमाती सड़क

राजनांदगांवःग्रामीण महिला कांग्रेस की कार्यकारिणी में प्रभारी मंत्री अकबर के करीबियों का वर्चस्व

राजनांदगांवः झंडा जलाने के विवाद से तनाव के बीच बंद रहा मानपुर

राजनांदगांवः विश्व आदिवासी दिवस पर किसान-मजदूरों ने केंद्र  के खिलाफ किया प्रदर्शन 

राजनांदगांवः राज्य और केंद्र की नीतियों पर बरसे किसान

राजनांदगांवः तेन्दूपत्ता से भरी ट्रक में जा घुसी तेज रफ्तार कार

राजनांदगांव : गुजारा भत्ता के लिए फिर चालकों का प्रदर्शन

गोदाम में रखा 35 लाख का बारदाना खाक