राजनांदगांव : बे-मौसम बारिश में भीगा करोड़ों का धान

मंडी और सोसायटियों में धान खरीदी की खुली पोल

राजनांदगांव। राजनांदगांव जिले में बे-मौसम बारिश से मंडी और सोसायटियों में रखे करोड़ों रुपए के धान भीग गए। गुरुवार को हुई बारिश ने जहां धान खरीदी व्यवस्था की प्रशासनिक पोल खोल दी। वहीं धान भीगने से सरकार को नुकसान होने का भी अंदेशा है। आज सुबह से रूक-रूक हो हुई बारिश से धान की बोरियां पानी में डूबी रही।
स्थानीय मंडी में खरीदी के बाद बोरियों को प्लास्टिक कव्हर से नहीं ढंका गया। जिसके चलते बोरियां पानी में पूरी तरह से भीग गई। इधर जिलेभर में हुई बारिश के कारण सोसाइटियों की व्यवस्था की बारिश ने कलई खोल दी। बारिश के कारण करोड़ों रुपए के धान खुले आसमान में रखे गए हैं। पिछले कुछ दिनों से मौसम में लगातार उतार-चढ़ाव रहा। इसके बावजूद सोसायटियों में प्लास्टिक कव्हर की समुचित व्यवस्था नहीं की गई। धान खरीदी के दौरान शुरूआत से ही अव्यवस्था का आलम रहा। सोसायटियों में तय समय पर धान परिवहन की व्यवस्था नहीं की गई। बताया जाता है कि मार्कफेड की लापरवाही के कारण भी सोसायटियों में धान की छल्लियां लगी हुई है। पिछले कुछ दिनों से सोसायटियों की ओर से मार्कफेड को धान उठाव करने के लिए दबाव बनाया गया है।

इस बीच सहकारी सोसायटियों की भी लापरवाही सामने आई है। खरीदी के बाद धान की बोरियों की समुचित देखरेख की जिम्मेदारी सोसायटियों के कंधे पर होती है। सोसायटियों में लगातार मौसम के मिजाज को अनदेखा किया गया है। जिसके कारण धान की बोरियों को ढंका नहीं गया। जबकि पिछले कुछ दिनों से लगातार मौसम का मिजाज बदला हुआ था। मौसम विभाग की ओर से बारिश होने को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। आखिरकार आज हुए बारिश से धान पूरी तरह से पानी में ही डूबा रहा। बताया जा रहा है कि पानी के कारण धान की गुणवत्ता भी प्रभावित होगी। वहीं सरकार को राजस्व का भी नुकसान होगा।