छत्तीसगढ़ विधानसभा में रखा गया आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट,कल होगा बजट पेश

प्रदेश की जीडीपी में 8.26 फीसदी वृद्धि अनुमानित

रायपुर | छत्तीसगढ़ में आगामी 2020-21 का वित्तीय बजट मंगलवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल विधानसभा के पटल पर रखेंगे। इसके साथ ही प्रदेश का कृषि बजट भी पहले पढ़ा जायेगा। ठीक उससे पहले हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी साल 2019-20 का आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट आज सदन के पटल पर रखा गया है। जिसमें राज्य का सकल घरेलू उत्पाद वर्ष 2018-19 का त्वरित और वर्ष 2019-20 का अग्रिम अनुमान अंकित किया गया है।

छत्तीसगढ़ राज्य का सकल घरेलू उत्पाद यानी जीएसडीपी के अनुमान वर्ष 2018-19 में आंकलित 3 लाख 4 हजार करोड रुपए से बढ़कर वर्ष 2019-20 में 3 लाख 29 हजार करोड़ों रुपए अनुमानित है, जोकि 8.26% वृद्धि होना दर्शाता है। इसी प्रकार जीएसडीपी स्थिर भाव पर वर्ष 2018-19 में आंकलित रुपए 2 लाख 31 हजार करोड़ से बढ़कर वर्ष 2019-20 में 2 लाख 43 हजार करोड रुपए अनुमानित है। इस वर्ष जीएसडीपी विकास दर 5.32% होना अनुमानित है।

प्रति व्यक्ति आय वर्ष 2018-19 के त्वरित अनुमान के अनुसार 92.413 रुपए से बढ़कर वर्ष 219-20 में 98.281 रुपए होना अनुमानित है, जो पिछले वर्ष की तुलना में 5.32% वृद्धि दर्शाता है।

कृषि क्षेत्र में 3.3% वृद्धि अनुमानित है जो कि देश की विकास दर से अधिक है। औद्योगिक क्षेत्र में 4.9% की वृद्धि अनुमानित है जो कि राष्ट्रीय तुलना से बेहतर है। सेवा क्षेत्र में 6.6% की वृद्धि अनुमानित है।

संबंधित पोस्ट

कोरोना संघर्ष के बीच विश्व ने मनाया अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य दिवस

सीएम भूपेश ने केन्द्रीय खाद्य मंत्री को लिखा पत्र, चावल देने जताई इच्छा…

सीएम भूपेश बघेल ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को लिखा पत्र

रायपुर नगर निगम की फूड सप्लाई सेल जरुरत मंदो तक पहुंचाया भोजन

छत्तीसगढ़ विधानसभा में एक लाख करोड़ का बजट पारित, स्थगित…

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने चैत्र नवरात्रि पर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

Border Seal : राजधानी रायपुर की सीमाओं को किया गया पूरी तरह सील

शहीद जवानों को मुख्यमंत्री भूपेश सहित मंत्रियों,अधिकारीयों ने दी श्रद्धांजलि

अबूझमाड़, ओरछा, उसूर और कोंटा के दुर्गम गांवों तक पहुंचा मलेरिया का इलाज

Holi 2020 : राज्यपाल अनुसुईया उइके और सीएम भूपेश ने दी शुभकामनाएं

कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने सभी सचिवों और कलेक्टरों को लिखा पत्र

छत्तीसगढ़ में आयकर का छापा, राजनीतिक फंडिंग का कॉकस – डॉ. लखन चौधरी