हाथी बने आफत, कच्ची फसल काट रहे किसान

कोरिया के खड़गवां में 30 हाथियों का दल

बैकुंठपुर । कोरिया जिले के खडगवां में 30 हाथियों ने किसानों के लिए आफत खड़ी कर दी है। पक रही फसलों को नुकसान पहुंचाता देख किसान अब कच्ची फसल को काटकर घर पर लाकर रख रहे हैं। अब तक 40 से ज्यादा किसानो की फसल को हार्थी बर्बाद कर चुके है, जबकि 9 लोगों के घरो को तोडकर तहस नहस कर दिया है। नाराज ग्रामीणों को समझाने मौके पर पहुंची विधायक अंबिका सिंहदेव ने उन्हें ढांढस बंधाया, अधिकारियों को किसानों की फसल का मुआवजा जल्द देने के निर्देश दिए।

जानकारी के अनुसार बीते 27 अक्टूबर को एक हाथिनी ने एक शावक को मुगमबारी के जंगलों में जन्म दिया, जिसके बाद से 30 हाथियों को दल यही ठेरा डाले हुए है, शाम होते ही हाथी चिंघाडते हुए मुगुम और बारी में धान की लगी फसल खाने पहुंच जाते है, ऐसा बीते एक सप्ताह से जारी है। जिसके कारण अब तक मुगुम और बारी में 40 से ज्यादा किसानों की फसल बर्बाद कर चुके है। किसान अपनी फसल को लेकर बेहद चिंतित है, जिसके बाद उन्होने विरोध शुरू कर दिया, जिसके बाद कल कोरिया वनमंडल के डीएफओ मौके पर पहुंचें और उन्होने ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया, परन्तु ग्रामीण काफी नाराज हैं, जिसके बाद शनिवार की सुबह बैकुंठपुर विधायक अंबिका सिंहदेव मुगुम और बारी पहुंची, वो मुगुम के सडकपारा पहुंचकर ग्रामीणों से उनकी समस्याओं को सुना और वन विभाग को तत्काल फसल का मुआवजा प्रकरण बनाकर उन्हे मुआवजा देने के निर्देश दिए। उन्होने ग्रामीणों की बातों को सुना और उन्हें हाथियों से दूर रहने की अपील की। उन्होने मामले में कोरबा विधायक , सीसीएफ और डीएफओ से चर्चा कर हाथियों को कोरबा के रास्ते यहां से निकाले जाने को लेकर चर्चा भी की।

कच्ची फसल काट रहे किसान
मुगुम के सुखेद्र का कहना है कि हाथी शाम 4 बजे से हमारे खेतों में पहुंच जाते है, उनके आने की आहट हमे उनके चिंघाडने से होती है, रात भर हाथियो का दल हमारे खेतो के धान की खडी फसल खाने के साथ गिरा देते है जिसके कारण यहां के सभी किसान अपने कच्ची फसल को काट टेªेक्टर मे भर कर अपने घर लाकर रख रहे है, ताकि फसल बच जाए, क्योंकि फसल के गिर जाने पर उसे उठाने में बडी परेशानी होती है। हलांकि वो हाथियों के द्वारा फसल खाने उनके घर तक आ धमकने के खतरे से अंजान है, इसी बात को वन विभाग उन्हें समझाने का प्रयास कर रहा है, परन्तु ग्रामीण अपनी कच्ची फसल काटने से पीछे नहीं हट रहे है।

9 ग्रामीणों के तोडे घर
बीते 7 दिन में हाथियों ने ग्रामीणों ने 9 घर तोड डाले है, जिसमें मुगुम के सुखराम, मुन्ना, सुखेन्द्र, गुरूदयाल, जवाहीर, बारी के संतोष, रामनाथ, रामनारायण, हीरालाल के घर है। किसान सुखेन्द्र बताते है कि हाथियों के दल ने सबसे ज्यादा नुकसान मुगुम के ठिहाईपारा में किया है। हाथियों का दल कई बार उनके मोहल्ले में आ चुका है, घर में रखे धान को भी खा चुका है, यह है कि अभी इंसानों पर हमला नहीं किया है, ग्रामीण रात मंे जगते है दिन में कुछ देर सोने के अलावा अपनी कच्ची फसल काटकर घर में ला रहे है।