Exclusive : नक्सलियों ने जारी की रमन्ना के अंतिम संस्कार की तस्वीरें

10 दिसंबर को अंतिम यात्रा में कई नामी नक्सल नेता शामिल हुए

जगदलपुर। 36 सालों तक बस्तर में दहशत और आतंक के साथ तमाम बड़ी वारदातों में शामिल रहे नक्सली रमन्ना का अंतिम संस्कार 10 दिसम्बर को कर दिया गया है। हालांकि किस इलाके में किया गया है यह स्पष्ट नहीं है।

              अंतिम संस्कार में पोलित ब्यूरो , केंद्रीय व सैन्य समिति के अनेक वांटेड सदस्य मौजूद थे। नक्सलियों ने जो तस्वीरें जारी की हैं उनमें साफ दिख रहा है कि रमन्ना की अर्थी को बड़ी संख्या में हथियारबन्द महिला माओवादियों ने कंधा दिया। हालाकि अंतिम संस्कार में रमन्ना की पत्नी सावित्री व बेटे रणजीत के भी शामिल होने की खबर की नक्सली प्रवक्ता ने पुष्टि नहीं की है।

                    जबकि पुलिस ने कुछ साल पहले सावित्री की मौत होने की खबर दी थी। रमन्ना के अंतिम संस्कार में सैकड़ों ग्रामीणों के साथ अत्याधुनिक हथियारों से लैस नक्सलियों की मौजूदगी भी रही।

                    ज्ञात हो कि इसके पहले वरिष्ठ नक्सली नेता गणेश उइके ने रमन्ना के निधन पर दुख जताते इसे संगठन के लिए बड़ा नुकसान बताया है। जारी प्रेस विज्ञप्ति में दक्षिण सब जोनल ब्यूरो गणेश उईके ने कहा कि कामरेड रमन्ना की मौत संगठन के लिए अपूरणीय क्षति है।

                 गंभीर बीमारी के चलते माओवादी नेता रमन्ना ने 7 दिसम्बर की रात 10 बजे अंतिम सांस ली। गणेश उईके ने कहा कि नक्सली संगठन की मजबूती के लिए कामरेड रमन्ना ने आजीवन प्रयास किया।

                उनका बलिदान संगठन हमेश याद रखेगा और पीएलजीए का विस्तार होगा। बता दें कि नक्सली नेता रमन्ना की मौत को लेकर कई दिनों से कई तरह की खबरें आ रही थीं। इसके बाद प्रवक्ता विकल्प ने प्रेस नोट जारी कर रमन्ना की मौत की पुष्टि की थी।