करंट से शिकार, दो को वन अमले ने दबोचा

शिकार के लिए साढ़े तीन किलों जीआई तार का इस्तेमाल

पिथौरा। करंट से शिकार करने वाले शिकारी तब दबोच लिए गए जब वे सुबह तार को समेटने आए थे। घटना बार अभ्यारण्य से लगे अर्जुनी वन परिक्षेत्र की है। दोनों आरोपी जेल भेज दिए गए हैं। ज्ञात हो कि प्रदेश के कई वन्य इलाकों में करंट से शिकार की घटनाएं बढ़ी हैं। कई बार वन्य प्राणी ही नहीं मानव भी इसके शिकार हो रहे हैं। ज्ञात हो कि क्षेत्र के प्रमुख अभ्यारण्य क्षेत्रो में लगातार शिकार हो रहा है। बार क्षेत्र से चीतल एवम जंगली सुअर के मांस रायपुर एवम भिलाई में सप्लाय करने की खबरें सुर्खियां बनती रही हैं।वहीं जिन इलाकों में शिकार के दर्जनों मामले बनते थे आज अचानक वहां एक भी कार्रवाई नहीं होना भी कार्रवाई को लेकर संशय पैदा करता है।
सूत्रों के अनुसार बुधवार की रात अर्जुनी वन परिक्षेत्र में पूर्व की तरह रेंजर टी आर वर्मा के नेतृत्व में गश्त चल रही थी। इस बीच रात कोई 9 बजे अर्जुनी परिक्षेत्र के पश्चिम अर्जुनी के आरक्षित वन कक्ष क्र 356 में स्थित शक्ति नाला के पास पगडंडी में जमीन से कोई 10 से 15 इंच ऊपर खुटी के सहारे लोहे की तार काफी दूर तक फैली थी। इस तार को एक किसान के बोरवेल में लगे विद्युत कनेक्शन से जोड़ कर इसमें करेण्ट प्रवाहित किया गया था।चूंकि वनों में शिकारी अक्सर इसी आसान तकनीक का उपयोग कर शिकार करते हैं, लिहाजा वन गश्ती दल इसका खास ख्याल रखता है। करंट युक्त जाल देख कर वन अफसर टी आर वर्मा द्वारा पहले तार से करंट हटाया गया और वही खुद रेंजर वर्मा ने वनपाल लक्ष्मी प्रसाद श्रीवास्तव, प्रवीण कुमार आदिले, परिसर रक्षी हरिराम साहू,वनरक्षक खगेश्वर ध्रुव,एवम रामभरोस साहू सहित अन्य वन अमले को आसपास ही निगरानी हेतु लगाया गया था।
गुरुवार सुबह 2 ग्रामीण जाल के पास पहुंच कर तार समेट ही रहे थे कि रात भर से इनके इंतजार में बैठे वन अमले ने दोनों आरोपियों को दबोच लिया।आरोपियों ने अपना नाम परदेशी पिता रतन सिंह ठाकुर एवम आनन्द वल्द स्व रामाधीन बरिहा बताया। आरोपियों पर वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत कार्यवाही कर गुरुवार को न्यायालय में पेश किया गया जहां से उन्हें रिमांड पर जेल भेज दिया गया है।

साढ़े तीन किलो जीआई तार
विभाग द्वारा दोनों आरोपियों से जी आई तार 5 बंडल वजन कोई 3.520 किलो, फंदा लगाने में प्रयुक्त खाली दवाई की शीशी 48 नग,लोहे का हाशिया 01 नग,खाली सीमेंट बोरी 3 नग एवम नायलॉन थैला 01 नग जब्त किया गया है।

नहीं सामने आ रहे मामले
अर्जुनी वन परिक्षेत्र में शिकारियों एवम अवैध कटाई सहित अतिक्रमण कारियों पर कठोर कार्यवाही से हड़कम्प की स्थिति है।वही दूसरी ओर बार अभ्यारण्य क्षेत्र एवम देवपुर वन क्षेत्र में लगातार शिकारियों पर कार्यवाही कर रहे अफसरों को हटाकर दूसरी जगह भेज दिया गया और अब वहां कोई भी मामला सामने नहीं आ रहा है।