नर्सिंग कालेज में शार्ट अटेंडेंस के नाम पर अवैध वसूली

नर्सिंग कालेज के प्राचार्य व प्रबंधन के विरूद्ध अपराध दर्ज

बैकुंठपुर। रविवार 16 नवंबर को स्थानीय मार्गदर्शन संस्थान नर्सिंग कालेज की छात्र छात्राओं के साथ परिजनों द्वारा सिटी कोतवाली में शॉर्ट उपस्थिति के नाम पर छा़त्र छा़त्राओं से अवैध रूप से राशि वसूल करने की शिकायत की जिस पर सिटी कोतवाली पुलिस ने नर्सिंग कालेज के प्राचार्य व प्रबंधन के विरूद्ध अपराध दर्ज कर लिया। उसके बाद दोनों पक्षों में जमकर लाठी डंडा चला, जिसमें कई लोग घायल हुए, पुलिस ने दोनों पक्षों का मेडिकल करवा दिया है, परन्तु अभी तक मामले में एफआईआर दर्ज नहीं की है। इधर, मामले की गंभीरता को देखते हुए बैकुंठपुर विधायक अंबिका सिंहदेव भी थाने पहुंची और छात्राओं के साथ हुए अन्याय के खिलाफ कडी कार्यवाही करने पुलिस को निर्देश दिए।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मार्गदर्शन नर्सिंग कालेज के छात्र छात्राओं का आरोप था कि अनुपस्थित रहने वाले प्रत्येक छात्र-छात्राओं से 10,000, 15,000, 20,000 रूपये वसूल किया जा रहा था तथा फीस नही देने पर उन्हें परीक्षा में नही बैठने देने एवं फेल करने की धमकी दिया जा रहा था तथा प्रबंधन द्वारा छात्रों को प्रवेश पत्र एवं परीक्षा से वंचित रखा जा रहा था जिससे छात्र-छात्राओं में भारी विरोध एवं आकोश प्रबंधन के विरोध में हो गया था। तथा नगर का प्रबंधन के इस तानाशाही पूर्ण रवैये से छात्र-छात्राओं के अभिभावक काफी परेशान थे मार्गदर्शन संस्थान के विरूद्ध वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को काफी समय से अवैध उगाही किये जाने एवं अनाप-शनाप फीस वसुली की शिकायतें प्राप्त हो रही थी,।
प्रार्थी अभिषेक शर्मा एवं संजय अग्रवाल के लिखित शिकायत पर थाना बैकुंठपुर में धारा 384, 420, 34 भा.द.वि. का मामला मार्गदर्शन के प्रबंधक निमेन्द्र सिंह एवं प्राचार्य श्याम त्यागी के विरूद्ध दर्ज कर विवेचना किया गया अपराध प्रमाणित पाये जाने से प्राचार्य को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड में भेजा गया है, तथा पुलिस के अनुसार आरोपी प्रबंधक को अभी तक पकडा नहीं किया जा सका है। उधर, पुलिस के मामला दर्ज करने के बाद संजय अग्रवाल और उनके समर्थक संस्थान के करीब पहुंचें जहां दोनों पक्षो के साथ मारपीट कर बातें सामने आई, जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंची तब तक मामला शांत हो चुका था। देर शाम तक दोनों पक्षों के लोगों का पुलिस ने मेडिकल करवाया और अब कार्यवाही की तैयारी है।

पहली बार थाने पहुंचा कोई विधायक
बैकुंठपुर के इतिहास में पहली बार कोई विधायक थाने पहुंचा है, छात्राओं के साथ संस्थान द्वारा की जा रही अवैध उगाही की जानकारी मिलने बैकुंठपुर विधायक अंबिका सिंहदेव सिटी कोतवाली पहुंची और उन्होने कहा कि यहां किसी की गुंडागर्दी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। छात्राओं को उनका अधिकार मिलना चाहिए। गौरतलब है कि पूर्व वित्त मंत्री डॉ रामचंद्र सिंहदेव वर्षो बैकुंठपुर विधायक रहे, परन्तु कभी वो थाने नहीं गए। इसी तरह मंत्री राजवाडे दो बार विधायक रहे, वो भी कभी थाने नहीं गए। ऐसे में श्रीमति सिंहदेव का थाने जाना लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है।