अवैध रेत उत्खनन, अंबिका ने पकड़ी एक दर्जन से ज्यादा गाड़ियां

बैकुंठपुर के गेज नदी पर हो रहा था उत्खनन

बैकुंठपुर । कोरिया जिले में एक ओर भरतपुर में कई नदियों से अवैध रेत उत्खनन जारी है।बैकुंठपुर विधायक अम्बिका सिहदेव ने चिरमी स्थित गेज नदी से अवेघ रेत उत्खनन को रंगे हाथो पकड़ा। उत्खनन में लगे 10 ट्रेक्टर और 5 मिनी हाइवा को पकडा, उन्होने प्रशासन को कडी कार्यवाही के निर्देश दिए है। उन्होने कहा कि हमे नदियों को बचाना है, पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ कडी कार्यवाही की जाएगी। अवैघ रेत उत्खनन यहां नहीं होने दिया जाएगा।

जानकारी के अनुसार बैकुंठपुर विधायक अंबिका सिंहदेव हाथी प्रभावित क्षेत्र से लौटते समय बचरापोडी बैकुंठपुर मार्ग के बीच में पडने वाले ग्राम पंचायत चिरमी स्थित गेज पर पहुंची, उन्होने देखा कि नदि में 10 ट्रेक्टर और 5 हाईवा को पकडा, उनके साथ पुलिस जवानों ने रेत उत्खनन में लगे लोगो को पकडा और पकड कर खनिज विभाग को सौपा। विधायक की अचानक कार्यवाही से रेत माफियाओं में हडकंप मचा हुआ है। इसका असर भरतपुर में जारी अवैध उत्खनन पर पडने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। क्यांेकि अवैध रेत के मामले मे खनिज विभाग की सुस्ती किसी से छिपी नहीं है। जिले में अवैघ रेत उत्खनन मामला हर किसी के जुबान पर है। दूसरी ओर भरतपुर की नदियों में जमकर अवैध उत्खनन जारी है, मवई नदी में बीच मे ग्रामीणों के विरोध के बाद कुछ दिन उत्खनन बंद तो हुआ परन्तु बाद में फिर शुरू हो गया।

रेत माफियाओं की हुई धुनाई
भरतपुर से लगी मप्र सीमा पर बसा गांव टिकरी में गोपर बनास नदी से अवैघ रेत निकालने पहुंचे रेत माफियाओं को ग्रामीणों ने जमकर धुनाई कर दी। जिसके बाद वहां से उन्हें भागना पड गया। बताया जाता है ये वहीं रेत माफिया है जो मवई नदी में अवैध उत्खनन कर रहे है, इस समय उनका एक जेसीबी मवई नदी पर खडा हुआ है, जबकि भगवानपुर से लगातार रेत मप्र और उप्र भेजा जा रहा है। इसके अलावा कई लोगोे ने अवैध रेत का भंडारण कर रखा है, खनिज विभाग के अधिकारी सिर्फ बैकुंठपुर स्थित अपने कार्यालय में व्यस्त रहते है, कभी भी वो रेत उत्खनन रोकने सामने नहीं आते है जिसके कारण ग्रामीणों को सामने आना पडता है,,भरतपुर में तो ग्रामीणों के बुलाने पर ना तो राजस्व अधिकारी और ना ही पुलिस मौके पर पहुंचती है।