कोरिया त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव, सियासी तड़के से गांव-गांव घमासान

कांग्रेस के दिग्गज दरकिनार, भाजपा फूंक-फूंक रख रही कदम,गोगंपा नए चेहरे के साथ

बैकुंठपुर| कोरिया जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर गांव-गांव में चुनावी घमासान देखते ही बन रहा है। पंच से लेकर जिला पंचायत सदस्य बनने नेताआों में काफी जोश नजर आ रहा है, वहीं जिला पंचायत में 68 के मुकाबले 66 फार्म वैध पाए गए । बैकुंठपुर और भरतपुर में एक एक फार्म को अमान्य किया गया है। दूसरी ओर बैकुंठपुर जनपद में पंच के 26 पद ऐसे है जो रिक्त पाए है, जहां किसी ने आवेदन नहीं किया है। दूसरी ओर रनई के बाद जामपारा ऐसी पंचायत बनने जा रही है जहां पूरे पंचायत प्रतिनिधि निर्विरोध घोषित होंगे।

जानकारी के अनुसार जारी त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में राजनीतिक दलों ने अपने समर्थितों के नाम घोषित कर मैदान में उतार दिया है। वहीं कांग्रेस के कई दिग्गज भी मैदान में है, अब कल 9 जनवरी को नाम वापसी और चिन्ह का वितरण होना है, जिसके बाद कांग्रेस के दिग्गज नेताओं को भविष्य क्या होगा यह देखने की बात होगी।

वहीं कांग्रेस के टिकट वितरण को यदि गौर से देखा जाए तो यह बात सामने आती है कि पार्टी दिग्गजों के साथ साहू समाज को भी इस चुनाव से दरकिनार कर दिया है। जिसके दूरगामी परिणामों का कांग्रेस अभी तक आंकलन नहीं कर पाई है। वहीं भाजपा इस चुनाव में संभल कर कदम रख रही है तो गोंडवाना गणतंत्र पार्टी कई नए चेहरो के साथ मैदान में है।

जनपद, सरपंच और पंच के लिए चुनावी कार्य में देर रात तक प्रशासनिक कार्य जोरों पर जारी है। रनई के बाद ग्राम पंचायत जामपारा में कुल 14 पंच में अब तक 12 निर्विरोघ जीत चुके है जबकि सरपंच भी यहां निर्विरोध जीत चुके है, 9 जनवरी को नाम वापसी के बाद यह तय माना जा रहा है बचे दो पंच का चुनाव भी नहीं हो पाएगा। यदि ऐसा हुआ तो जिले का दूसरा ग्राम पंचायत होगी जहां पंचायत चुनाव नहीं होगा। इसमें पूरी भूमिका गोल्डन चिकनजूरी की देखी जा रही है। वहीं बैकुंठपुर में अब तक 26 ऐसे वार्ड है जहां किसी ने भी आवेदन नहीं किया है, जिसमें 8 डुमरिया, 8 कटोरा, 3 तलवापारा और बाकि अन्य ग्राम पंचायतों में है।

दिग्गज दरकिनार
कांग्रेस के घोषित प्रत्याशी में दो बार बैकुंठपुर विधानसभा से विधायक के चुनाव लड़ चुके बेदांति तिवारी को दरकिनार कर दिया, उनका गृह क्षेत्र कुडेली से चुनावी मैदान में हैं, वहीं वर्तमान जिला पंचायत सदस्य शरण सिंह को भी टिकट ना देकर विरभान सिंह को अपना प्रत्याशी बनाया है। सबसे चौकाने वाला निर्णय रामकृष्ण साहू को लेकर है जो वर्तमान में जिला पंचायत सदस्य है। साहू समाज से आने वाले साहू ने मंत्री प्रतिनिधि रेवा यादव को बड़े अंतर से डेढ वर्ष पहले हराया था, अब कांग्रेस ने उनसे दूरी बना ली है। विधानसभा चुनाव में साहू समाज ने कांग्रेस का पूरा साथ भी दिया, परन्तु रामकृष्ण साहू को दरकिनार कर पार्टी ने साहू समाज को बडा झटका दिया है, वहीं भाजपा ने अनिल साहू को टिकट देकर साहू समाज को वापस अपने करीब लाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

अब तक कौन किस क्षेत्र से
जनकपुर क्षेत्र क्रमांक 1 से फूल सिंह, पिकी सिंह, पुष्पा देवी बैगा, सरोजनी, सुखवंती सिंह, सुमन गोड।
जनकपुर क्षेत्र क्रमांक 2 से गौरी बाई, रामप्रसाद, रविशंकर कंवर, सुरजदीन गोड, विजय प्रताप गोंड, यशवंत सिंह मरावी।
मनन्द्रगढ क्षेत्र क्रमांक 1 से वीरभान सिंह, दृगपाल सिंह उईके, शरण सिंह गोंड, तोष कुमार,
मनेन्द्रगढ क्षेत्र क्रमांक 2 से हेमवती गोड, प्रभा गोड, उर्मिला नेताम, उषा सिंह करयाम
सोनहत क्षेत्र से अनारमति चेरवा, अंजू देवी साहू, अरूणा दुबे, जयवती चेरवा, ज्योत्सना पुष्पेन्द्र राजवाडे, कमला गुप्ता, कृष्णी राजवाडे, लक्ष्मी सिंह, नसरीन फातमा, शिवाली सिंह और सुशीला राजवाडे
बैकुंठपुर क्षेत्र क्रमांक 1 से आन्नद कुमार राजवाडे, अनूप सोनवानी, गणेश कुमार राजवाडे, लल्लूराम रवि, लक्ष्मी चिकनजूरी, संजय कुमार दुबे, संजय कुमार टोप्पो, सोमारू सिंह, सूर्य प्रता सिंह और विजय राजवाडे
बैकुंठपुर क्षेत्र क्रमांक 2 से अनिल जायसवाल, अनिल साहू, चंद्र प्रकाश राजवाडे, प्रतिमा तिवारी, रामकृष्ण साहू, शिव कुमार यादव, वेदांति प्रसाद तिवारी, विन्धेश पांडेय,
बैकुंठपुर क्षेत्र क्रमांक 3 से संगीता सोनवानी, कृष्णा देवी भास्कर, सुनीता
खडगवां क्षेत्र क्रमांक 1 से कैलाश कुमार नेटी, रेणुका आयाम, सुनीता सिंह, सुशीला देवी
खडगवां क्षेत्र क्रमांक 2 से अखिलेश पैकरा, अमृतलाल गोड, चुन्नी बाई पैकरा, कलावती मरकाम, लाल बहादूर, लल्लू प्रसाद भगत, प्रदीप सिंह आदित्य, पूरन सिंह सरोजनी सिंह कमरो और सूर्यप्रकाश सिंह उईके।