पटरी पर जान देने पहुंचा प्रेमी जोड़ा, आरपीएफ की पड़ी नजर और…

महासमुंद जिले के बागबाहरा का मामला

महासमुंद। बाली उमर और जात बिरादरी अलग-अलग, प्रेमी जॊड़े को परिवार और बिरादरी द्वारा अलग कर देने का डर लिहाजा दोनों पटरी के पास थे, इसी दौरान आरपीएफ के एक जवान की नजर पड़ी।
जानकारी के अनुसार रेलवे स्टेशन बागबाहरा में एक किशोरवय जोड़ा लगभग एक घंटे से प्लेटफार्म में चहलकदमी कर रहा था, जिस पर वहां तैनात आरपीएफ सिपाही एस एस गुर्जर की नजर पड़ी। जब इन दोनों की गतिविधियां संदिग्ध लगीं तो वे उनसे पूछताछ करने लगे। दोनों ने भाई-बहन का रिश्ता बता बचने की कोशिश की, लेकिन उनके व्यवहार से ऐसा लग नहीं रहा था। लिहाजा थोड़ी सख्ती बरती तो सच उगल दिया। और सारा माजरा सामने आ गया। एक-दूसरे से अलग होने के डर से पटरी पर जान देने की तैयारी थी। बताया गया कि दोनों तेंदुकोना थाना के एक गांव के थे तथा दोनों प्रेम करते थे। 20 साल का युवक पिछ़डा वर्ग से था तो वहीं 18 वर्ष की दहलीज पर खड़ी युवती आदिवासी। प्रेम संबंध की जानकारी जब दोनों के घरवालों तक पहुंची तो दोनों को एक-दूसरे से अलग होने का डर सताने लगा। लिहाजा देर रात अपने-अपने घर से भागकर बागबाहरा रेलवे स्टेशन पहुंच गए। दोनों पटरी पर एक साथ जान देने के इरादे से पहुंचे थे लेकिन वहां तैनात आरपीएफ जवान एसएस गुज्जर की निगाह में आ गए।
इसके बाद आरपीएफ के इस जवान ने दोनों को समझाइश दी। समझाईश के बाद आरपीएफ जवान ने उनके परिवार वालों को सूचित किया जहां से उनके परिवार के लोग गांव के मुखिया के साथ रेलवे स्टेशन पहुंचे। जहां दोनों को उनके परिवार को सौंप दिया गया।