अबूझमाड़, ओरछा, उसूर और कोंटा के दुर्गम गांवों तक पहुंचा मलेरिया का इलाज

स्वास्थ्य विभाग की पहल से बस्तर होगा मलेरियामुक्त

रायपुर | बस्तर में एनीमिया और कुपोषण का एक बड़ा कारण मलेरिया है। मलेरिया संक्रमण से रक्त की कमी हो जाती है जिससे एनीमिया की स्थिति निर्मित होती है। गर्भवती महिला के मलेरिया पीड़ित होने से नवजात के कम वजन होने की संभावना बढ़ जाती है जो आगे चलकर कुपोषण का रूप ले लेती है। यह अभियान बस्तर को न केवल मलेरिया से मुक्ति दिलायेगा, बल्कि एनीमिया, कुपोषण, शिशु एवं मातृ मृत्यु दर में कमी लाने में भी प्रभावी होगा।

स्वास्थ्य विभाग ने बस्तर को मलेरिया, एनीमिया और कुपोषण से मुक्त करने करीब दो लाख 76 हजार घरों में दस्तक दी। स्वास्थ्यकर्मी मलेरियामुक्त बस्तर अभियान के अंतर्गत 15 जनवरी से 14 फरवरी तक लक्षणहीन तथा लक्षण वाले मलेरिया का इलाज करने बस्तर संभाग के 154 छात्रावासों, 500 आश्रमों, 76 पोटा केबिन स्कूलों और अर्धसैनिक बलों के 169 कैंपों में भी पहुंचे। मलेरिया की पहचान के लिए इस दौरान कुल 14 लाख पांच हजार 610 लोगों के खून की जांच की गई।

घर-घर पहुंचे स्वास्थ्यकर्मी
बस्तर संभाग के मलेरिया प्रभावित क्षेत्रों में मलेरिया परजीवी को समूल नष्ट करने यह व्यापक अभियान उन क्षेत्रों में संचालित किया गया जहां वार्षिक परजीवी सूचकांक 10 से अधिक है। दंतेवाड़ा, बीजापुर, सुकमा और नारायणपुर जिले के सभी विकासखंडों, बस्तर जिले के तीन विकासखंडों बड़े किलेपाल, तोकापाल व दरभा तथा कांकेर एवं कोंडागांव के 39 उपस्वास्थ्य केन्द्रों में यह अभियान संचालित किया गया। बस्तर संभाग के कुल 26 विकासखंडों में घर-घर जाकर मलेरिया की स्क्रीनिंग एवं इलाज किया गया। श्रीलंका को मलेरियामुक्त करने जिस तरह व्यापक अभियान चलाया गया था, उसी तर्ज पर यह गहन अभियान बस्तर में संचालित किया गया है। इसका दूसरा चरण आगामी मई-जून महीने में चलाया जाएगा।

दवा के साथ खिलाए चिक्की और लड्डू
स्वास्थ्य विभाग के अमले ने माह भर चले मलेरियामुक्त बस्तर अभियान में 64 हजार 583 लोगों को अपने सामने मलेरिया की दवा खिलाई। मलेरिया पाए गए लोगों को दवा खिलाने से पहले चिक्की और लड्डू खिलाई गई ताकि वे खाली पेट न रहें। खून की जांच के बाद मलेरिया पाए गए अधिकतर लोग लक्षणविहीन थे। उनमें बाहरी तौर पर बुखार या मलेरिया के अन्य लक्षण नहीं थे। परंतु जांच के बाद उनके शरीर में मलेरिया परजीवी पाए गए। इलाज के अभाव में यह एनीमिया और कुपोषण को जन्म देता है। अभियान के दौरान यह सुनिश्चित किया गया कि पीड़ित मलेरिया की दवाई की पूरी खुराक लें। इसे सत्यापित करने सभी टीमों से खाली ब्लिस्टर पैक संकलित किए गए। उपचार कार्ड भी प्रदाय किया गया। घरों में स्टीकर के माध्यम से सत्यापित किया गया।

प्रमुखता से की गई जांच
अभियान के अंतर्गत सभी घरों, स्कूलों, आश्रम-छात्रावासों, अर्धसैनिक बलों के कैंपों और जेलों में जाकर लक्षणविहीन मलेरिया की पहचान के लिए सभी व्यक्तियों के खून की जांच की गई। मलेरिया प्रभावितों का पूर्ण इलाज कर उनके शरीर से मलेरिया परजीवी को समूल नष्ट किया गया, जिससे कि मलेरिया फैलने की संभावना को कम से कम किया जा सके। अभियान में कोई भी व्यक्ति जांच से न छूटे, इसके लिए स्क्रीनिंग के बाद सभी के पैरों में स्याही से निशान लगाए गए। स्वास्थ्यकर्मियों के भ्रमण के दौरान घर में नहीं रहने वाले लोगों को कव्हर करने माप-अप राउंड में दोबारा उनके घर जाकर रक्त की जांच की गई। पहली बार में छूट गए एक लाख से अधिक लोगों की जांच माप-अप राउंड के दौरान की गई।

बाधाओं को पार कर दुर्गम गांवों में पहुंचा स्वास्थ्य अमला
मलेरियामुक्त बस्तर अभियान के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कई-कई किलोमीटर पैदल चलकर दुर्गम एवं पहुंचविहीन गांवों में मलेरिया की जांच एवं इलाज किया। इन गांवों में कुछ दिन रूक कर उन्होंने मलेरिया के साथ ही लोगों की विभिन्न स्वास्थ्यगत परेशानियों का भी उपचार कर दवाईयां दी। कई गांवों तक पहुंचने के लिए दल को छोटे-छोटे नावों से नदी पार करनी पड़ी। सुकमा जिले के कोंटा विकासखंड के दुर्गम एवं दूरस्थ गांव गोगुंडा में स्वास्थ्य विभाग की टीम पहाड़ पर 15 किलोमीटर की पैदल चढ़ाई कर मलेरिया जांच के लिए पहुंची। टीम ने वहां तीन दिनों तक कैंप कर 856 लोगों की जांच की। कैंप के दौरान 87 बच्चों को टीके लगाने के साथ ही लोगों का परीक्षण कर उनकी स्वास्थ्यगत परेशानियों का उपचार किया। वहां 28 साल बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची थी।

संबंधित पोस्ट

Video:CWC में छत्तीसगढ़ को महत्त्व नहीं मिलने पर गरमाई राजनीति

Big News:महानदी-इन्द्रावती भवन में कोरोना संक्रमण रोकने प्रभावी उपाय पर जोर

CM भूपेश के निर्देश,कोरोना मरीजों के उपचार और देखभाल की हो बेहतर व्यवस्था

Video:दंतेश्वरी माई के नाम से होगा जगदलपुर एयरपोर्ट का नामकरण

JEE और NEET के परीक्षार्थियों को परीक्षा केन्द्रों तक लाने ले जाने सरकार करेगी परिवहन व्यवस्था

छत्तीसगढ़ के नवीन विधानसभा भवन की सोनिया और राहुल गांधी ने रखी आधारशिला

मुख्यमंत्री ने उद्यमी कृषकों की सफलता की कहानी पुस्तक का किया विमोचन

राज्यपाल, मुख्यमंत्री ने गणेश चतुर्थी पर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

Video:भूपेश कैबिनेट की बैठक में 33 बिंदुओं पर राज्य सरकार ने लिए कई बड़े फैसले

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के 19 लाख किसानों को मिली दूसरी किश्त

राजीव गांधी जी की जयंती पर मिलेगा ‘राजीव गांधी किसान न्याय योजना’ की दूसरी किश्त

CM हाउस में ‘पोरा-तीजा‘ तिहार की रही धूम,तिहार के रंग में रंगे दिखे मुखिया भूपेश