…फांसी की रस्सी से पैसे झड़ेंगे तो साले की बलि दे दी

पूजा से पहले पकड़ाया, अब बैगा समेत सलाखों के पीछे

दुर्ग। करोड़पति बनना चाहता था वह। बैगा ने कहा कि किसी को बलि दोगे तो करोड़पति बनने से कोई रोक नहीं सकता। बैगा की सलाह मानी और उसने साले की हत्या कर दी। घटना बालोद जिले की है। दुर्ग पुलिस ने आरोपी समेत बैगा और एक अन्य को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस ने बताया कि 29 दिसबंर को अंडा थाने के गांव अलबरस में एक किशोर बालक की जली लाश मिली थी। तहकीकात के दौरान पता लगा कि सीमा से सटे बालोद जिले के अर्जुंदा थाना में एक किशोर बालक के गुम होने की शिकायत दर्ज कराई गई थी।

इसी आधार पर दुर्ग पुलिस ने गुम बच्चे के अभिभावक को बुलाकर लाश के पास मिले जुतों से पहचान कराई गई। उसकी शिनाख्ती रूद्र नारायण देशमुख के रूप में की गयी। पुछताछ में मृत बच्चे के परिजनों ने बताया कि 23 की रात को मडई देखने को ग्राम आलबरस गया था। बच्चे का जीजा पंचूराम देशमुख भी साथ था। जो घटना के बाद से फरार था।

पुलिस उसकी खोजबीन में जुटी थी कि उसके धमतरी के गुटकेल क्षेत्र के ग्राम बोराई में होने का पता चला। पुलिस ने वहां जाकर उसे हिरासत में लिया और पूछताछ की। गुमराह करते रहने के बाद सख्ती से वह टू गया और बताया कि उसने अपने साले की हत्या की है।

आरोपी ने बताया कि वह खूब सारे पैसे कमाना चाहता था। कुछ बरस पहले उसकी पहचान ससुराल में धमतरी के धनराज नेताम से हुई थी। वह बैगाई करता था। उसने बताया कि अगर वो उसे फांसी लगी रस्सी और मृतक बच्चे का नाम और मृत्यु का समय लाकर देगा तो पूजा के बाद उस रस्सी से पैसे झड़ने लगेंगे।

वह कई दिनों तक फांसी की रस्सी की जुगाड़ में लगा रहा। रस्सी नहीं मिलने पर उसने अपने रिश्तेदार नाबालिग साले रुद्र की हत्या की साजिश रची। आरोपी पंचू देशमुख के साथ उसके पड़ोस का 15 वर्षीय बच्चा रूद्र नारायण को, जो कि उसका दूर के रिश्ते में साला लगता था, 23  दिसंबर को अपने गांव आलबरस में होने वाले मड़ई में साथ चलने को कहा। दोनों रात में आमटी मोड़ के पास खेत में जाकर शराब पीये और फिर आरोपी ने रस्सी से बच्चे का गला घोट दिया।

उसने बताया कि आरोपी पकड़े जाने के डर से लाश को पैरावट में डालकर आग लगा दी। घटना के बाद आरोपी ने इसकी जानकारी धनराज नेताम को दी। दूसरे दिन पंचू अपने साथ हत्या में उपयोग की गयी रस्सी और बच्चे की हत्या के समय को कागज में नोट कर धमतरी निकल गया। धनराज ने रस्सी की पूजा मंगलवार 31 दिसंबर को करने की बात कही थी। पुलिस ने इस मामले में पंचू देशमुख और धनराज को गिरफ्तार और हत्या का समय नोट की हुई पर्ची बरामद की गयी है।

संबंधित पोस्ट

राजनांदगांव में दो दोस्तों को एक दर्जन ने घेर कर मारा

तीन हत्याओं से इस्पात नगरी में सनसनी, हत्यारे ने चॉक से दरवाज़े पे लिखा

कोरिया पंचायत चुनाव में परिवारवाद ने पकड़ा तूल

छत्तीसगढ़ से भोपाल पहुंचा बब्बर शेर का जोड़ा

नाले में अज्ञात युवक की मिली लाश

शादी के दबाव से तंग आकर युवती को जलाने का आरोपी गिरफ्तार

टोलनाका के उपद्रवियों की सीसीटीवी से पहचान में जुटी पुलिस

जशपुर से सटे झारखंड में नक्सल हत्या !

बस्तर : जब मासूम की इच्छा के सामने पुलिस हुई सरेंडर

बेटे की चाहत में पत्नी को मार डाला

70 की उम्र में 5वीं पास कर सुर्खियों में रहा जशपुर का यह बुजुर्ग अब मांग रहा सपरिवार इच्छामुत्यु

नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में दो जवान घायल