5 लाख से अधिक श्रमिक व अन्य लोग लौटे,मनरेगा के तहत मजदूरों को मिला काम

छत्तीसगढ़ में मजदूरों को मिली सुविधा

रायपुर | कोरोना संक्रमण के कारण देशभर सहित प्रदेश में हुए लॉकडाउन से प्रवासी लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। लेकिसन छत्तीसगढ़ शासन की पहल से प्रवासियों को प्रदेशों तक पहुँचाया गया। गृहराज्य लौटने पर प्रवासी श्रमिकों ने मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर श्रमिक स्पेशल ट्रेनों, बसों एवं अन्य माध्यमों से अब तक 5 लाख 34 हजार प्रवासी श्रमिक और अन्य लोग सकुशल छत्तीसगढ़ लौट चुके हैं। इनमें 103 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के माध्यमों से छत्तीसगढ़ पहुंचे एक लाख 50 हजार से अधिक श्रमिक भी शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन से उत्पन्न परिस्थितियों के कारण देश के अन्य राज्यों में छत्तीसगढ़ के लाखों मजदूर एवं अन्य लोग फंसे हुए थे। राज्य सरकार द्वारा इन श्रमिकों को सुरक्षित छत्तीसगढ़ लाने के लिए बनायी गई कारगर रणनीति, श्रमिक स्पेशल ट्रेनों और बसों की व्यवस्था और अधिकारियों की मुस्तैदी से इन श्रमिकों को सकुशल छत्तीसगढ़ वापस लाया जा रहा है।

श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया के अनुसार राज्य सरकार द्वारा अन्य प्रदेशों से श्रमिकों की सुरक्षित वापसी के लिए भवन एवं अन्य सन्ननिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल द्वारा अब तक 4 करोड़ 65 लाख रेल मण्डलों को और बसों पर खर्च किए गए हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में अन्य राज्यों से वापस लौटे इन प्रवासी श्रमिकों को राज्य शासन द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के तहत रोजगार दिया जा रहा है। अब तक की स्थिति में प्रदेश के 29 लाख 35 हजार मजदूरों को मनरेगा से काम मिल रहा है। इसके अतिरिक्त श्रम विभाग द्वारा प्रदेश के छोटे-बड़े 1521 कारखानों को पुनः प्रारंभ कर एक लाख 10 हजार से अधिक श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है।

श्रम मंत्री ने बताया कि ऐसे प्रवासी श्रमिक जिनका मनरेगा के तहत जॉब कार्ड नहीं बना है, उनका भी जॉब कार्ड बनाकर रोजगार देने का प्रावधान किया गया है। उन्हें निःशुल्क राशन भी दिया जा रहा है। मनरेगा के तहत करीब 29 लाख से अधिक मजदूरों को रोजगार मिल रहा उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य के भीतर अन्य जिलों सेे 15 हजार 767 श्रमिकों को सकुशल उनके गृह जिला भिजवाया गया है, वहीं छत्तीसगढ़ में रूके अन्य राज्यों के 28 हजार 450 श्रमिक सुरक्षित वापस अपने गृह राज्य जा चुके हैं। छत्तीसगढ़ से श्रमिक स्पेशल ट्रेन के माध्यम से 882 श्रमिकों को उत्तरप्रदेश भेजा गया। राज्य कर्मचारी बीमा सेवाएं (ईएसआई) के द्वारा संचालित 42 क्लीनिकों के माध्यम से लगभग 99 हजार श्रमिकों को निःशुल्क इलाज एवं दवाएं उपलब्ध कराया गया।

संबंधित पोस्ट

मनरेगा जॉबकॉर्डधारी परिवारों को 100 दिनों का रोजगार देने में छत्तीसगढ़ देश में प्रथम

छत्तीसगढ़ सरकार की बड़ी राहत,जाति और निवास प्रमाण पत्र अब घर बैठे ही मिलेगा

महासमुंद : मनरेगा के कार्य में भारी गड़बड़ी की शिकायतें

जहां चल रहा हो मनरेगा का काम, वहां बीड़ी पीना, तंबाकू खाना और थूकना मना

मनरेगा : छत्तीसगढ़ शीर्ष राज्यों में शुमार

मनरेगा : मजदूरी के बदले अनाज देने की मंशा, भूपेश ने केंद्र से मांगी अनुमति

कोरिया : मनरेगा में मज़दूरी खाते में महज़ 26 रुपए बचे, कैसे हो गुजारा

सीएम भूपेश का मोदी को एक और ख़त, मांगी मनरेगा के पहले 3 माह की मजदूरी

भूपेश सरकार ने मनरेगा का 86 फीसदी पूरा किया लक्ष्य, 2.56 लाख परिवारों को रोजगार

मनरेगा : रोजगार देने वाले राज्यों में चौथे स्थान पर छत्तीसगढ़

कोरियाः दशक पहले बना तालाब अब मनरेगा में फिर बन रहा नया

Big News : मनरेगा में ज़्यादा रोजगार देने वाला छठवा राज्य बना छत्तीसगढ़